एचटीएमएल (What is HTML) क्या है- कैसे काम करता है, HTML Full Form In Hindi

HTML Kya Hota Hai और यह कैसे काम करता है एवं Full Form Kya Hoti Hai व एचटीएमएल प्रयोग क्यों करते हैं जाने सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

जैसा कि आप जानते हैं दोस्तों कि आज का जो समय है वह काफी ज्यादा डिजिटल हो चुका है और लगभग सभी क्षेत्रों में जो व्यक्ति डिजिटल तौर पर काफी मजबूत होता है उसे नौकरियां भी प्रदान की जाती है वर्तमान समय में Web Developer की मांग बहुत तेजी से बढ़ रही है जिसके लिए यदि कोई भी व्यक्ति एचटीएमएल सीख चुका है तथा वह किसी भी कंपनी या किसी भी वेबसाइट के लिए वेब डेवलपिंग का कार्य करना चाहता है तो यह बहुत ही अच्छी नौकरी मानी जाएगी |

अगर आप एचटीएमएल सिख कर खुद की वेब साइड बनाकर कार्य करना चाहते हैं तो यह भी बहुत अच्छा माना जाता है अब आप यह सोच रहे होंगे कि एचटीएमएल क्या होता है तो आज इसी विषय पर चर्चा करेंगे तथा आपको निम्नलिखित विस्तृत तौर पर बताएंगे कि यह कैसे काम करता है सभी प्रकार की जानकारियों के लिए हमारे साथ जुड़े रहिए।

HTML Kya Hota Hai ?

यदि एचटीएमएल के विषय में बात करें तो यह एक प्रकार की मार्ककप भाषा मानी जाती है जिसके द्वारा एक प्रकार के Web Page का निर्माण किया जाता है तथा उसको बनाने में जिस Markup language का इस्तेमाल किया जाता है वह एसटीएमएल ही होती है यदि HTML फुल फॉर्म की बात करें तो यह हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज(Hyper Text Markup Language) होता है। यदि इसके निर्माण की बात किया जाए तो इसका निर्माण सन 1991 में टीम बर्नर्स ली ने किया था तथा तब से लेकर अब तक इसमें बहुत से ऐसे बदलाव किए गए हैं तथा नए नए वर्जन अपडेट किए गए हैं वर्तमान समय में HTML5 वर्जन काफी ज्यादा उपयोग में लाया जा रहा है इसमें बहुत सारे टैग भी सम्मिलित होते हैं जिनके द्वारा कार्य करता है।इसमें जो Tags इस्तेमाल किए जाते है जैसे <Headers>,<P> आदि का Use HTML में ही किया जाता है।

एचटीएमएल(HTML) का कार्य क्या होता है?

किसी भी Browser चाहे वह Google Chrome हो या कोई भी अन्य हो इन सब के द्वारा एचटीएमएल कोड का इस्तेमाल करके आप वेबसाइट का निर्माण कर सकते हैं जोकि उपरोक्त बताए गए ब्राउज़र के द्वारा आसानी से लोगों तक पहुंच जाते हैं जिसमें टेक्स्ट एडिटर तथा Notepad के द्वारा HTML के Code को सम्मिलित करके प्रदर्शित किया जाता है जोकि कई प्रकार के Code से मिलकर बना होता है इसके कार्य करने का मुख्य उद्देश्य होता है कि शुरू किए गए टैग ब्राउज़र को सही दिशा निर्देश में वेबसाइट पर कब और कैसे इंटरनेट उपयोगकर्ता को दिखाना है यह एचटीएमएल के द्वारा ही तय किया जाता है।

एचटीएमएल के माध्यम से ही वेबसाइट में ग्राफिक्स फोंट साइज एवं कलर मुहैया कराए जाते हैं जिनकी वजह से आपकी वेबसाइट और ज्यादा आकर्षित लगती है तथा इसके साथ-साथ जब आपको कोई भी डॉक्यूमेंट सेव करना होता है तो उसमें आपको अंत में .html करके Save करना होता है जिसके बाद ही आपको यह फाइल Show होगी।

HTML Tags क्या होता है?

एचटीएमएल टैग्स जो होता है वह अन्य tags से बिल्कुल अलग कार्य करता है इसे हम जब भी देखेंगे तो यह Bracket के अंदर <tags> कुछ इस प्रकार रहता है जिसकी सहायता से हम अपनी Website को और भी आकर्षित बना सकते हैं जिसमें Font Size, Paragraph Colour आदि को मेंटेन किया जाता है।Web developing में इंटेक्स का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है जोकि HTML के माध्यम से ही संभव हो पाता है निम्नलिखित कुछ टैग हम शो कर रहे हैं जिसको आप देखकर आसानी से समझ सके उपरोक्त बताए गए कुछ बेसिक tag माने जाते हैं जिनका वर्तमान समय में ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है जिसे देखकर आप अच्छी तरह समझ सके तथा इनके बारे में पूर्णता सीख सकें।

1. HTML tag का Symbol  <html>

2. Head tag का Symbol <head>

3. Title tag का Symbol <title>

4. Body tag का Symbol <body>

5. Heading tag का Symbol <h1>

6. Paragraph tag का Symbol <p>

7. Line break tag का Symbol <br/>

8. Centering content tag का Symbol <center>

9. Horizontal line tag का Symbol <hr>

HTML Tags की Category

जिस तरह से आप को उपरोक्त टैग के बारे में निश्चित तौर पर बताया गया है हम आशा करते हैं कि आप को भलीभांति समझ में आ गया होगा अब हम एचटीएमएल टैग के कैटेगरी की बात करेंगे जो कि प्रायः दो प्रकार की होती हैं जिसे हम निम्नलिखित बताने जा रहे हैं

1.Paired Category

यदि Paired Category को हम सरल भाषा में बताएं तो जिस भी tag के शुरू एवं अंत में दोनों ही में टैग का प्रयोग किया जाता है Paired कैटेगरी कहलाती है जिसे हम कंटेनर कैटेगरी के नाम से भी जानते हैं यदि उदाहरण की बात करें तो जिस तरह से एचटीएमएल tag का Opening tag <html> है तथा  Closing tag </html> होता है ठीक उसी प्रकार पेड़ कैटेगरी के अंतर्गत आने वाले सभी टैग जो होते हैं उनमें क्लोज करने के लिए फॉरवार्ड स्लैश का इस्तेमाल किया जाता है जिससे यह पता चल पाता है कि इसे क्लोज किया जा रहा है तथा इसे बंद माना जायगा।ऐसी संभावना के बाद ही हम एक वेब पेज का निर्माण कर सकते है।

2.Unpaired Category

यह एक प्रकार का Empty टाइप का tag होता है जिसमें क्लोजिंग पॉइंट सम्मिलित नहीं होता है यदि किसी भी ट्रैक को हम ओपन कर रहे हैं तो उसमें जरूरी नहीं होता कि हम क्लोजिंग पॉइंट को भी प्रदर्शित करें इसलिए अनपेयर्ड कैटेगरी के टाइप को ओपनिंग तक के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है।Line Break tag <br/> इसी Unpaired Category में गिना जाता है।जिसके द्वारा आसानी से एक वेब पेज के निर्माण की संभावना बन जाती है।

Leave a comment