आईटीआर (ITR Full Form) क्या होता है- Income Tax Return दाखिल कैसे करे?

ITR Kya Hota Hai और इसकी फुल फॉर्म क्या होती है एवं Income Tax Return दाखिल कैसे करे व ये कैसे बनता है जाने सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

मनुष्य की आमदनी पर केंद्र सरकार द्वारा जो टैक्स वसूला जाता है उसे आईटीआर के नाम से जानते हैं। आईटीआर एक प्रकार कानूनी दस्तावेज होता है जो आम आदमी की आमदनी का पूरा विवरण सरकार को जाहिर करता है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से आईटीआर क्या होता है- से जुड़ी संपूर्ण जानकारी स्पष्ट करने जा रहे हैं। यदि आप Income Tax Return से संबंधित कोई भी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अंत तक विस्तार पूर्वक पढे।

आईटीआर (ITR Full Form) क्या होता है?

आइटीआर एक प्रकार का फॉर्म होता है जो सरकार को अपने पिछले वित्तीय वर्ष की आमदनी के बारे में जानकारी देने के लिए भरा जाता है। यह एक प्रकार का कानूनी दस्तावेज है जिसके माध्यम से सरकार को आपकी आमदनी का पूरा विवरण प्राप्त होता है। आईटीआर के माध्यम से सरकार जान सकते हैं कि आप ने किन स्रोतों से पैसे कमाए हैं,‌ आपने कितना निवेश किया है, आपको कितनी बचत हुई है और कितना आपको कर चुकाना है। आइटीआर फॉर्म भरने के लिए आपको इनकम टैक्स विभाग में जाकर सात प्रकार के फॉर्म भरने होते हैं जिनके बारे में जानकारी हम आपको आगे प्रदान करेंगे।

आईटीआर

ITR Full Form क्या है

मनुष्य द्वारा भरे जाने वाले फॉर्म आईटीआर की की फुल फॉर्म है जो हमने आपको नीचे स्पष्ट किए हैं

  • ITR Full Form अंग्रेजी में- Income Tax Return
  • आईटीआई फुल फॉर्म हिंदी में- आयकर रिटर्न

आइटीआर कैसे बनता है?

जैसे कि आप सभी जानते हैं कि आइटीआर एक प्रकार का स्टेटमेंट है जो सरकार को बताता है कि देश के नागरिकों द्वारा अपने बिजनेस या नौकरी से कितनी रकम प्राप्त की गई है। आईपीआर आप दोनों ऑनलाइन ऑफलाइन माध्यम से बना सकते हैं। इनकम टैक्स एक्ट Income Tax Act के अनुसार वह सभी व्यक्ति जिनकी आयु 60 वर्ष या उससे कम है और 2.5 लाख से ज्यादा वार्षिक आए हैं और जिन मनुष्य की आयु 60 वर्ष या उससे अधिक है और उनकी वार्षिक आय ₹300000 है उन्हें आइटीआर फॉर्म भरना अनिवार्य है।

ITR

ITR फॉर्म के प्रकार क्या है?

इनकम टैक्स विभाग द्वारा लोगों को अपनी आय से संबंधित विवरण प्रदान करने के लिए विभिन्न प्रकार के फॉर्म उपलब्ध कराए जाते हैं। असेसमेंट वर्ष 2019 और 20 में लगभग ITR1 से लेकर ITR-7 फोंस उपलब्ध कराए गए थे। इन सभी फॉर्म से संबंधित जानकारी प्राप्त करने हेतु नीचे दिए गए चरणों को ध्यानपूर्वक पढ़ें:-

  • ITR-1: आइटीआर 1 फॉर्म को सहज के नाम से भी जाना जाता है। यह फॉर्म उनके द्वारा भरा जाता है जो वेतन पेंशन एक घर संपत्ति ब्याज या अन्य तरीकों से इनकम प्राप्त करते हैं। इस फॉर्म को भरने के लिए व्यक्ति की इनकम ₹5000000 तक होनी चाहिए।
  • ITR-2: आइटीआर 2 उन व्यक्तियों द्वारा भरा जाता है जिनके पास इनकम का स्रोत तो है लेकिन किसी व्यवसाय या पेशे से लाभ नहीं है।
  • ITR-3: यह फॉर्म अलग-अलग व्यक्तियों यह हिंदू उंडिवाइडेड फैमिली को दिया जाता है। आइटीआर 3 उन लोगों के लिए है जिनकी आय का श्रोत किसी भी व्यवसाय या पेशे से नहीं है।
  • ITR-4: आइटीआर 4 उन लोगों के लिए हैं जिनके पास व्यवसाय या पेशे से अनुमति निर्धारित नहीं है।
  • ITR-5: यह फॉर्म उन व्यक्तियों के लिए है जो हिंदू उंडिवाइडेड फैमिली से हैं और ITR-7 फाइल करने वाले व्यक्तियों के लिए है
  • ITR-6:  यह फॉर्म उन कंपनियों के लिए है जो इनकम टैक्स एक्ट की धारा 11 के तहत छूट का दावा नहीं कर रहे हैं।
  • ITR-7: आइटीआर 7 यह फॉर्म उन व्यक्तियों के लिए जिन्हें धारा 139(4A), धारा 139(4B), धारा 139(4c) आदि के तहत रिटर्न फाइल कर सकते हैं।
ITR Kya Hai

आइटीआर भरने के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन-कौन से हैं?

इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के लिए आपको नीचे दिए गए दस्तावेजों को ध्यान पूर्वक पढ़ना है:-

  • फॉर्म 26as
  • पैन कार्ड
  • फॉर्म 16 ऐ, 16 बी, 16 सी
  • टीडीएस सर्टिफिकेट
  • इंटरेस्ट सर्टिफिकेट
  • कर बचत निवेश का प्रमाण पत्र

(Income Tax Return) आईटीआर फाइल कैसे करें?

मनुष्य द्वारा आईटीआर फाइल करने के लिए नीचे दिए गए चरणों को ध्यानपूर्वक पढ़ें एवं उनका पालन करें:-

  • इनकम टैक्स फाइल करने के लिए आपको सबसे पहले ईफाइलिंग पोर्टल के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
आईटीआर
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको ITR Return Preparation के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके पश्चात आपको मैन्यू में जाना है।
  • यहां आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • डाउनलोड करने के बाद आपको फोन में पूछी गई सभी जानकारी भरनी है।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको वैलिडेट करें कि विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके पश्चात आपको गणना करें कि विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप इसको जनरेट कर सेव कर सकते हैं।
  • इनकम टैक्स द्वारा आपकी इनकम फॉर एनालाइज किया जाता है और गलती आने पर कार्यवाही की जाती है।

Conclusion

आज हमने आपको इस लेख के माध्यम से आईटीआर (ITR Full Form) क्या होता है- से संबंधित संपूर्ण जानकारी स्पष्ट कर दी है। यदि आपको इस विषय से संबंधित कोई भी कठिनाई है मन में कोई भी प्रश्न आता है तो आप हम से नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम जल्द से जल्द आपकी समस्या का समाधान देने का प्रयास करेंगे।

Leave a comment