सांसद सैलरी Salary कितनी होती है- MP Salary In India जाने हिंदी में

सांसद सैलरी क्या होती है और सांसद सैलरी कितनी होती है एवं Member of Parliament को दिए जाने वाले अन्य भत्ते व MP Salary In India

भारत एक लोकतांत्रिक देश है और यहां पर सभी व्यक्ति को आजादी से चुनाव लड़ने का हक है चाहे वह किसी भी वर्ग का हो किसी भी समाज का हो या फिर किसी भी क्षेत्र का हो शायद यही कारण है कि भारत का लोकतंत्र हमेशा से सर्वश्रेष्ठ रहा है और भारत का संविधान भी  कहता है अभिव्यक्ति की आजादी जो है एक समान रूप से सभी वर्गो के लिए बराबर है जैसा कि आप जानते हैं कि लोकतांत्रिक देश में जो भी सांसद विधायक होते हैं वह चुनकर चुनाव के माध्यम से आते हैं उन्हीं में से Member of Parliament भी एक ऐसा पद है जोकि भारत के प्रधानमंत्री नियुक्त करने के लिए विशेष माना जाता है आज हम उन्हीं सांसद सैलरी(MP Salary) के बारे में आप से चर्चा करेंगे तथा उसके बारे में विस्तार से बताने का प्रयास करेंगे कि India में MP Salary कितनी होती है।

Member of Parliament Kya Hota Hai?

सांसद जो होता है वह Member of Parliament होता है जोकि किसी भी शहर का,जिले का सिर्फ एक होता है लोकसभा का जो चुनाव होता है वह सांसद का ही चुनाव होता है जिसके बाद अधिक संख्या होने के बाद ही प्रधानमंत्री नियुक्त होता है जिस पार्टी के पास जितने अधिक सांसद होते हैं उसी पार्टी की तरफ से देश का Prime Minister घोषित होता है अपने क्षेत्र में विकास कार्य को करने के लिए तथा उन्हें बढ़ावा देने के लिए सांसद हमेशा से कार्यपालिका को लेकर उन क्षेत्रों में कार्य करता है वर्तमान समय में भारत में अधिकतम 543 सांसद चुनकर Parliament जाते हैं और अपने क्षेत्र के विकास के लिए मुद्दा उठाते हैं।

MP Salary

 विधानसभा क्या होता है

सांसद(Member Of Parliament) के बारे में कुछ विशेष तथ्य

सांसद जो होते हैं वह अपने क्षेत्र का प्रतिनिधि करते हैं और Parliament में जाकर अपने क्षेत्र के मुद्दों को और विकास के बारे में चर्चा भी करते हैं कोई भी MP बनने के बाद उन्हें सरकार की तरफ से बहुत ही सुविधा प्रदान की जाती है दिन में वेतनमान के साथ-साथ और भी बहुत सी सुविधा जुड़ी हुई होती हैं भारत के हर राज्य में और उनके शहरों में लोकसभा का चुनाव हर 5 वर्ष पर कराया जाता है जो कि संपूर्ण भारत में होता है जो भी व्यक्ति Member of Parliament बनता है उन्हें उनके राज्य के हिसाब से सैलरी प्रदान की जाती है बताते चलें कि भारत के विभिन्न राज्यों में सांसद का जो वेतनमान है वह अलग-अलग निर्धारित किया गया है सांसद सैलरी के बारे में हम आपको लिखित जानकारी प्रदान करते हैं।

सांसद(MP) की Salary कितनी होती है?

Member Of Parliament की सैलरी की बात की जाए एक सांसद को औसतन ₹100000 प्रतिमाह वेतन के रूप में मिलता है तथा उसके साथ ही साथ ₹45000 की राशि निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार प्रसार हेतु भी दी जाती है ऐसे में एक सांसद को ₹150000 के आसपास की सैलरी प्रदान की जाती है यही नहीं MP को कई प्रकार के भत्ते भी वेतन आयोग लागू होने के बाद दिए जाते हैं और जैसे-जैसे वेतन आयोग लागू होता है इनके भत्ते में बढ़ोतरी देखने को मिलती है। उन्हें स्वास्थ्य बीमा की प्रदान किया जाता है और अन्य जो भक्ति होते हैं वह भी उनसे जुड़ कर मासिक तौर पर दिए जाते हैं।

MP Salary

किस राज्य में सबसे अधिक और सबसे कम Salary सांसद की?

यदि भारत में सांसदों सैलरी के बारे में बात करें तो तेलंगाना राज्य की हाल ही में कुछ साल पहले आंध्र प्रदेश से अलग होकर बना है उसके सांसदों की सैलरी सबसे अधिक है जो कि लगभग ढाई लाख रुपए मासिक वेतनमान होता है और सबसे कम सैलरी की बात किए जाए तो मिजोरम राज्य की जो सांसद नियुक्त होते हैं उन्हें प्रत्येक माह तकरीबन ₹50000 की सैलरी प्रदान की जाती है यदि देखा जाए तो विधायक और सांसद की सैलरी मैं कुछ ही अंतर देखने को मिलता है और वर्तमान समय में कुछ ऐसे भी सांसद हैं जो कि हमारे देश के प्रधानमंत्री से भी अधिक सैलरी प्राप्त कर रहे हैं।

आचार संहिता क्या होता है

सांसद(Member of Parliament) को दिए जाने वाले अन्य भत्ते

भारत के सांसदों को मासिक वेतन के साथ-साथ कुछ अन्य भक्त भी प्रदान किए जाते हैं इनके बारे में हम आपको निम्नलिखित बताने जा रहे हैं।

  • भारत के दोनों ही Parliament राज्यसभा और लोकसभा कि जब कार्रवाई चलती है तो उस समय सांसदों को लगभग ₹50000 अलग से प्रदान किए जाते हैं
  • MP को ट्रेन में सफर करने के लिए First Class AC में Confirm Ticket भी मुफ्त में प्रदान किया जाता है
  • भारत के सांसदों को एक स्पेशल पास भी दिया जाता है जिसका इस्तेमाल कहीं पर भी कर सकते हैं
  • यदि भारत का कोई भी सांसद सड़क मार्ग के जरिए यात्रा करना चाहता है तो उसे प्रत्येक किलोमीटर ₹16 की दर से यात्रा भत्ता भी दिया जाता है।
  • यदि सांसद कार्रवाई के दौरान कोई भी सांसद उपस्थित होता है तो उनसे ₹2000 का अलग से भत्ता भी प्रदान किया जाता है
  • सांसदों को अपने क्षेत्र में प्रचार प्रसार एवं क्षेत्र की समस्याओं को सुनना जाकर निरीक्षण करने के लिए भी ₹45000 प्रत्येक महीने भत्ते के रूप में दिए जाते हैं।
  • सांसदों को अपने क्षेत्र में विकास करवाने एवं किसी प्रकार का भी कार्य कराने के लिए लगभग प्रत्येक वर्ष ₹50000000 भी प्रदान किए जाते हैं
  • भारत के सांसदों को लगभग ₹50000 हर 3 महीने तक घर के रखरखाव एवं कपड़े दिलवाने के लिए भी भत्ते के तौर पर दिए जाते हैं
  • भारत के सांसद को हवाई यात्रा करने पर उसे Ticket का सिर्फ 25% ही देना होता है और 1 वर्ष में सांसद और उसकी पत्नी को 34 हवाई यात्रा करने का निर्धारित किया गया है।
  • सांसदों को अपने कार्यालय में हज करने के लिए भी प्रत्येक महीने ₹45000 प्रदान किए जाते हैं जिसके अंतर्गत Stationery के खर्च के तौर पर ₹15000 तथा अपना सहायक रखने के लिए ₹30000 भी दिया जाता है।

Leave a comment