एनओसी (NOC) क्या है- (Non Objection Certificate Full Form) अनापत्ति प्रमाण पत्र

0
53

NOC Kya Hai | NOC Ki Full Form Kya Hoti Hai | Non Objection Certificate Kaise Banaye | एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) बनाने का तरीका क्या है। अनापत्ति प्रमाण पत्र क्यों बनायीं जाती है |

आज हम आपको अपने इस पोस्ट के माध्यम से एनओसी से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं क्योंकि आप में से बहुत सारे लोग ऐसे होंगे जिन्होंने एनओसी के बारे में सुना तो होगा लेकिन यह होता क्या है उसके बारे में कम ही लोगों को जानकारी होती है। एनओसी एक तरह का अनापत्ति प्रमाण पत्र होता है। जिसकी आवश्यकता हमें बहुत सारे कार्य में पड़ सकती है जैसे बैंक से रिलेटेड कार्यों में, किसी सरकारी या गैर सरकारी संस्था के दौरान। आज हम आपको अपने इस पोस्ट के माध्यम से Non Objection Certificate से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं। यदि अगर आप भी एनओसी के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

NOC Kya Hai?

सबसे पहले तो एनओसी की फुल फॉर्म नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट होता है जिसे हिंदी भाषा में अनापत्ति प्रमाण पत्र भी कहा जाता है। इस प्रमाणपत्र का मतलब कोई आपत्ति ना होना होता है। यह एक कानूनी दस्तावेज होता है जिसे संगठन, एक प्राधिकरण या एक संस्थान द्वारा जारी किया जाता है। एनओसी का उपयोग हम बहुत सारे कार्यों में करते हैं जैसे मुकदमेबाजी, आप्रवास, उत्तराधिकार, व्यापार, रोजगार, बाईक , वीजा, पासपोर्ट, एंप्लॉयमेंट, स्कूल-कॉलेज या लोन आदि। उदाहरण के तौर पर मान लीजिए आप किसी व्यक्ति से बाइक खरीदते हैं तो उस स्थिति में आप गाड़ी के मालिक से उसकी एनओसी मांगते हैं क्योंकि हो सकता है गाड़ी पर कोई लोन वगैरह हो और वह आपको बेच रहा है

यदि अगर आपके पास अनापत्ति प्रमाण पत्र होगी तो आप अपनी गाड़ी को बचा सकते हैं। इसी तरह एनओसी का उपयोग आप बहुत सारे कार्यों में कर सकते हैं जहां आपको जरूरत लगती है। हम आपको कुछ एनओसी के प्रारूप बताने वाले हैं जिसे आप आसानी से पढ़ कर समझ सकते हैं कि किन स्थिति में Non Objection Certificate जरूरी होती है।

एनओसी

एनओसी क्यों बनवाई जाती है ?

जीवन में कभी कभी कुछ ऐसी परिस्थितियां आ जाती हैं जिन पर लोगों को आपत्ति हो होती है मुद्दों से बचने के लिए एनओसी बनवाई जाती है। क्योंकि उसमें हमारा ही फायदा होता है कि यदि अगर भविष्य में कुछ चीज या जगह को लेकर हम पर कोई दोष लगता है और यदि हमारे पास अनापत्ति प्रमाण पत्र होता है तो हम उसे दिखा कर उस सिचुएशन से निकल सकते हैं।अब हम आपको बताते हैं कि Non Objection Certificate किस किस स्थिति में बनवाई जाती है।

NOC Kya Hai

लोन के समाप्त होने पर

अगर आपने कभी भी किसी बैंक से लोन लिया है और आप उसे सही समय पर चुका देते हैं लेकिन उसके बाद आपको लोन चुकाने के ऊपर एक एनओसी प्रमाण पत्र बनवाना पड़ता है क्योंकि यदि अगर भविष्य में लोन को लेकर कुछ भी मुद्दा उठता है तो आप अनापत्ति प्रमाण पत्र दिखाकर उससे आसानी से बच सकते हैं।वैसे तो Non Objection Certificate बैंक द्वारा जारी किया जाता है लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आप खुद एनओसी की मांग कर सकते हैं।

किसी वाहन की किस्त पूरी होने पर

इसी तरह आपने कभी किसी भी प्रकार का वाहन खरीदा है तो वाहन की किस्त पूरी होने पर भी आप एजेंसी से एनओसी प्रमाण पत्र मांग सकते हैं वैसे तो एजेंसी द्वारा एनओसी प्रमाण पत्र जारी किया जाता है।

किसी वाहन को एक राज्य से दूसरे राज्य में ले जाने पर

यदि अगर आप एक राज्य से दूसरे राज्य में अपना वाहन लेकर जाना चाहते हैं तो उसके लिए भी आपको अनापत्ति प्रमाण पत्र की जरूरत पड़ती है। आप किसी भी आरटीओ ऑफिस से एनओसी जारी करवा सकते हैं।

एनओसी (NOC) क्या है

एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) के लाभ

  • एनओसी लेने का मतलब आप पर कोई देनदारी बकाया नहीं होती इसका विवरण दिया जाता है।
  • कई बार लोन की किस्त चुकाने के बाद भी हम पर बकाया लोन दिखाया जाता है जिसके लिए एनओसी लेना बहुत ज्यादा आवश्यक है।
  • एनओसी लेने के बाद आप आराम से अपनी प्रॉपर्टी या वाहन आसानी से भेज सकते हैं।
  • Non Objection Certificate लेने के बाद पूरी तरीके से घर या वाहन आपका हो जाता है जिस पर बैंक का प्रॉपर्टी पर कोई भी क्लेम नहीं होता।
  • एनओसी लेने के बाद आप दूसरा लोन लेने के लिए आसानी से अप्लाई कर सकते हैं।
  • एनओसी लेने से आपके क्रेडिट स्कोर में भी तेजी से सुधार आता है।
Non Objection Certificate
  •  

Format Of NOC (Non Objection Certificate)

1- अपने परिसर को किराए पर देने के लिए एक मालिक से एनओसी का नमूना प्रारूप

जो कोई भी इससे संबंधित है उसके लिए

I / हम, _________, ________ के पुत्र / पुत्री इसके द्वारा राज्य करते हैं,

मैं / हम / _____________ पर स्थित परिसर के कानूनी स्वामी हैं / (इसके बाद “उक्त परिसर” के रूप में जाना जाता है)।

मुझे / हमें _______________ में कोई आपत्ति नहीं है। नाम दर्ज करें) उक्त परिसर का उपयोग साझेदारी फर्म / प्रोप्राइटरशिप / एलएलपी / प्राइवेट लिमिटेड कंपनी / पब्लिक कंपनी के पंजीकृत कार्यालय के रूप में किया जा रहा है।

तिथि हस्ताक्षर _____________

स्थान: ________ �Ner (स्वामी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here