Planets Name In Hindi-  सभी ग्रहों के नाम हिंदी और इंग्लिश में

Planets Kya Hota Hai और सभी ग्रहों के नाम हिंदी और इंग्लिश में एवं सभी ग्रहों के नाम क्या – क्या है जाने सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

जैसा कि आपको पता है कि हमारी हमेशा से ही कोशिश रहती है कि मैं अपने Reader को नई नई जानकारियों से अवगत कराया करें आज उसी संबंधित हम आपको सौर मंडल में उपस्थित सभी ग्रहों(All Planets Name in Hindi & English) की जानकारियां साझा करेंगे तथा उनके बारे में हम जिससे आपको बताने का प्रयास करेंगे उसके साथ-साथ उनके अंग्रेजी और हिंदी नामों को भी आपके सामने दर्श आएंगे जिस तरह से दुनिया का उदय हुआ उसमें सौरमंडल(Solar System) में उपस्थित सभी ग्रहों(Planets) क्षुद्र ग्रहों उल्का पिंडो आदियों का नाम आपने हमेशा से ही स्कूली किताबों में या फिर समाचार के माध्यम से जरूर सुना होगा यह क्या होते हैं और किस तरह से इनका उत्थान व यह सभी जानकारियां हम निम्नलिखित आज आपसे साझा करने जा रहे हैं तो आइए हमारे Article को अंत तक पढ़िए और जानकारियां हासिल करें।

ग्रह(Planets) क्या होते है?

जैसा कि आपको पता है कि पृथ्वी जो है वह हमारा ग्रह है तथा पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जहां पर जीवन संभव है क्योंकि यहां की जो वातावरण है वह रहने योग्य माना जाता है परंतु और अन्य ग्रहों से जीवन की उम्मीद नहीं की जा सकती यह जो होते हैं वह सूर्य के चारों तरफ परिक्रमा करते रहते हैं तथा इनके दिन और रात सूर्य की परिक्रमा के आधार पर ही माना जाता है ठीक उसी प्रकार बहुत से ग्रहों(Planets) के भी उपग्रह होते हैं जैसे कि पृथ्वी का जो उपग्रह है वह चांद है और अनेकों उल्कापिंड भी ग्रह की शक्ल में या सितारों की शक्ल में सौरमंडल में उपस्थित है

जैसा कि आप सूर्य को ले लीजिए हम सूर्य को ग्रह नहीं मानते क्योंकि वह एक आग का जलता हुआ गोला है जो कि एक तारा है और सूर सभी तारों में सबसे बड़ा तथा सौरमंडल में तारों का राजा कहा जाता है।

Planets Name

चन्द्र ग्रहण (LUNAR ECLIPSE) क्या होता है

सौरमंडल क्या होता है? What is The Solar System?

जब भी आप रात में अपनी छतों पर लेटते होंगे तथा अपनी आंखों से आकाश की तरफ देखते होंगे तो आपको बहुत से ज्यादा तारों का झुंड दिखाई देता होगा जिन्हें गिनना नामुमकिन है क्या आपको पता है कि वह तारे(Star) कहां पर उपस्थित होते हैं जिस तरह एक घर में सभी परिवार के सदस्य रहते हैं ठीक उसी प्रकार सौरमंडल(Solar System)है जहां पर सभी तारे ग्रह उपग्रह उल्का पिंड इन सभी को उपस्थित माना जाता है सौरमंडल का जो वातावरण है वह बिल्कुल भी अलग तरीके का माना जाता है Solar System में रहने वाले सभी ग्रह उपग्रह आकाश पिंड पुल का पानी ग्रह जो होते हैं वह खगोलीय पिंड के रूप में जाने जाते हैं क्योंकि खगोलीय पिंड वह होते हैं जो प्राकृतिक तौर पर बने होते हैं। सौरमंडल में उपस्थित सभी खगोलीय पिंड एक दूसरे से गुरुत्वाकर्षण बल के माध्यम से जुड़े हुए होते हैं।

सौरमंडल क्या होता है

ग्रह(Planets) कितने प्रकार के है सभी के नाम हिंदी और English में(Planets Name in Hindi/Eng)

वर्तमान समय में हमारे सौरमंडल(Solar System) में आठ ग्रह पाए जाते हैं हालांकि 2006 से पहले नौ ग्रह हुआ करते थे परंतु 2006 की रिसर्च के बाद प्लूटो ग्रह को ग्रह की श्रेणी से हटाकर बौने ग्रह में की श्रेणी में डाल दिया गया क्योंकि वह अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ(International Astronomical Union) में ग्रह की परिभाषा के लिए आवश्यक मानक पर खरा नहीं उतर रहा था जिसके बाद उसे क्षुद्रग्रह अथवा बौने ग्रह की श्रेणी में डाल दिया गया निम्नलिखित हम आपको सभी Planets Name तथा उनसे संबंधित जानकारियां बताने जा रहे हैं।

Planets Nameग्रहों के नाम
Mercuryबुध
Venusशुक्र
Earthपृथ्वी
Marsमंगल
Jupiterबृहस्पति
Saturnशनि
Uranusअरुण
Neptuneवरुण
Planets Name

सभी ग्रहों(Planets Name) के बारे में विस्तृत जानकारी

जैसा कि उपरोक्त आपको हमने सभी ग्रहों के नाम हिंदी और English में बारी बारी से बताए हैं अब हम उनके बारे में विस्तृत तौर पर आपको जानकारियां साझा करेंगे।

Mercury (बुध)

सौरमंडल का सबसे छोटा और पृथ्वी के सबसे नजदीक जो ग्रह है वह बुध है यह बिना उपग्रहों वाला ग्रह माना जाता है तथा उसके साथ साथ सबसे ज्यादा गर्म और सबसे ज्यादा ठंडा भी माना जाता है क्योंकि यहां पर दिन का तापमान लगभग 427 डिग्री सेल्सियस पहुंच जाता है तो वही रात का तापमान -173 डिग्री के आसपास होता है रिसर्च में पाया गया कि Mercury एक प्रकार का चट्टानी ग्रह है जिसमें बहुत बड़ी मात्रा में लोहे का उत्पादन छिपा हुआ है यह सौरमंडल का सबसे ज्यादा दैनिक तापमान के साथ जो कि 600 डिग्री सेल्सियस माना जाता है यदि सूर्य से इसकी दूरी देखा जाए तो वह लगभग 58 Million Kilometer की दूरी पर स्थित है जिस कारण इसे सूर्य की परिक्रमा करने में 88 दिन का समय लगता है।यदि इसके रंग की बात किया जाए तो या गहरे भूरे रंग का ग्रह है।

Venus(शुक्र)

शुक्र ग्रह सौरमंडल में सूर्य के दूसरे सबसे नजदीक ग्रह माना जाता है इसकी खासियत यह है कि यह अन्य ग्रहों की अपेक्षा विपरीत दिशा में सूर्य की परिक्रमा करता है जिस तरह सभी ग्रह पश्चिम से पूर्व की तरफ सूर्य की परिक्रमा करते हैं ठीक उससे उलट Venus Planet पूर्व से पश्चिम की तरह परिक्रमा करता है यह सबसे ज्यादा जानलेवा ग्रह माना जाता है क्योंकि यहां पर अधिकतर 90 से 95% Carbon dioxide Gas पाई जाती है यदि इस के तापमान की बात करें तो इसका औसतन तापमान 462 डिग्री सेल्सियस रहता है यह सूर्य से लगभग 109 Million Kilometer की दूरी पर स्थित है तथा सूर्य की परिक्रमा 225 दिन में तय करता है।

Earth(पृथ्वी)

सौरमंडल में उपस्थित सभी ग्रहों में इकलौता ग्रह पृथ्वी है जहां पर जीवन संभव है क्योंकि जीवन के लिए यहां पर ऑक्सीजन और पानी की अधिक मात्रा पाई जाती है इसलिए इसे नीला ग्रह भी कहते हैं Earth का एकमात्र उपग्रह चंद्रमा है जिसे हम आकाश में रात में चमकते हुए देखते हैं पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा 365 दिन में पूरी करता है तथा अपनी एक धुरी से दूसरी धुरी पर घूमने के लिए 24 घंटे यानी 1 दिन का समय लेता है यदि पृथ्वी की दूरी सूर्य से देखी जाए तो यह लगभग 150 Million Kilometer की दूरी पर स्थित है पृथ्वी की आकृति की बात की जाए तो यह Geoid आकृति का है

इस पर 78% जल तथा 29% स्थलीय भाग है जिस पर सभी जीव जंतु मनुष्य आदि रहते हैं इसके एकमात्र उपग्रह की दूरी 384000 KM है यदि इसके अक्ष ध्रुवीय व्यास की बात करें तो यह 12715 KM तथा भूमध्यरेखीय व्यास की बात करें तो वह 12756 KM पर स्तिथ है।

Mars(मंगल)

सौरमंडल पर स्थित दूसरा छोटा ग्रह तथा सूर्य से चौथे नंबर का ग्रह मंगल ग्रह को माना जाता है जो की Red Planet के नाम से भी जाना जाता है इसका कारण यह है कि यह लोहे पर लगे जंग की भांति आकाश में दिखाई देता है। सौरमंडल में उपस्थित Mars पर है सबसे विशाल ज्वालामुखी Olympus Mons स्थित है बहुत बार रिसर्च में यह भी पता चला है कि मंगल ग्रह पर महीनों महीनों धूल भरी आंधियां भी चलती रहती हैं इसके 2 उपग्रह होते हैं जोकि Deimos और Phobos है। डीमोस सौरमंडल का सबसे छोटा उपग्रह माना जाता है

यदि सूर्य से मंगल ग्रह की दूरी की बात करें तो यह 215.86 Million Kilometer की दूरी पर स्थित है वर्तमान समय में नासा के द्वारा मंगल ग्रह पर भी जीवन खोजने की जद्दोजहद चल रही है जिसमें कई रिसर्च में यह पाया गया है कि मंगल ग्रह पर भी पानी और ऑक्सीजन प्रचुर मात्रा में मिल सकता है जिससे वहां पर जीवन संभव हो सकता है।

Jupiter(बृहस्पति)

सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह और पृथ्वी से पांचवें नंबर का ग्रह बृहस्पति को माना जाता है पृथ्वी की तुलना में यह लगभग 300 गुना ज्यादा भारी है तथा इसका व्यास पृथ्वी के मुकाबले 11 गुना ज्यादा है जोकि 1 लाख 40 हजार किलोमीटर है। सूर्य की ही भांति Hydrogen और Helium गैसों से Jupiter Planet भी बना है बना है उसके साथ साथ इसमें बहुत थोड़ी मात्रा में Ammonia, Methane,Water काफी अंश देखने को मिलता है यह लगभग 63 उपग्रहों का ग्रह माना जाता है जिसमे Ganymede सबसे बड़ा उपग्रह है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह तारे और ग्रहों की गुणों की संरचना से बना है जिस वजह से इसका वायुमंडलीय दाब सूर्य से भी 1 करोड़ गुना अधिक माना जाता है। सूर्य से बृहस्पति ग्रह की दूरी लगभग 744.86 Million Kilometer है।

Saturn(शनि)

सौरमंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह और सूर्य से छठे नंबर पर स्थित जो ग्रह है वह शनि ग्रह को माना जाता है यह पूर्ण रूप से गैसों के द्वारा निर्मित है जिसमें 94% Hydrogen Gas, 6% Helium Gas और  Methane और Ammonia का भी अंश देखने को मिलता है। इसलिए इसे गैसों का ग्रह अथवा गैसों का गोला भी कहते हैं यह लगभग 7 उपग्रहों वाला ग्रह है जिसमें से सबसे बड़ा Titan उपग्रह माना जाता है।Saturn(शनि)ग्रह सभी ग्रहों में आंखों से देखने वाला अंतिम ग्रह है तथा इसकी सूर्य से दूरी लगभग 1.479 Billion Kilometer है।

Uranus(अरुण)

सौरमंडल का सातवां ग्रह अरुण की खोज सन 1781 में William Harsil ने की थी यह ग्रह सूर्य से लगभग 2.9 Billion Kilometer की दूरी पर स्तिथ है इसके 5 प्रकार के वलय होते है जो को Alpha,Beta,Gamma,Delta,Epsilon होते है।Uranus ग्रह दक्षिणावर्त अक्ष पर घूमता है जिस वजह से इसे लेटा हुआ ग्रह भी कहते है।इस पर मुख्य रूप से Hydrogen,Helium Methane,Ammonia गैसे उपस्थित है।इसके उपस्थित उपग्रह पृथ्वी के उलट परिभ्रमण करते है जिसके कारणवश यह बहुत ही ठंडा ग्रह माना जाता है।Methane Gas के ज्यादा होने की वजह से यह देखने में नीला रंग का दिखता है और यह पृथ्वी के द्रव्यमान से लगभग 14.5 गुना ज्यादा माना जाता है।

Neptune(वरुण)

सौरमंडल का आठवां और सूर्य से सबसे दूरी पर स्थित जो ग्रह है वह Neptune(वरुण) ग्रह को माना जाता है जिसकी खोज सन 1946 ई. में जर्मन खगोलशास्त्री Johan Gale ने की थी Neptune Planet का वातावरण बिल्कुल ठंडा माना जाता है क्योंकि इसका 80% हाइड्रोजन और 19% हीलियम के साथ-साथ कुछ मात्रा में मीथेन और पानी का भी अनशन देखने को मिलता है जिससे इसके वातावरण में ठंडा पन दिखाई देता है पृथ्वी के द्रव्यमान से ये 17 गुना ज्यादा अधिक होता है यदि वरुण ग्रह के दूरी सूर्य से देखी जाए तो 4.4745 बिलियन kilometer मानी जाती है यह 13 उपग्रहों वाला ग्रह है जिसमें Triton सबसे बड़ा उपग्रह है।

Leave a comment