Z Plus Security क्या होती है- जेड प्लस सिक्योरिटी किसे और कब दी जाती है

Z Plus Security Kya Hoti Hai और जेड प्लस सिक्योरिटी किसे और कब दी जाती है एवं इसका सालाना बजट क्या होता है जाने हिंदी में

जैसा कि आपको पता है कि जब भी देश में सुरक्षा की बात की जाती है तो उसके लिए  बीएसएफ सीआरपीएफ सीआईएसएफ आर्मी आदि के जवान देश की सुरक्षा में बॉर्डर पर तैनात किए जाते हैं इसी के साथ देखा जाए तो आम आदमियों की सुरक्षा के लिए राज्य के पुलिसकर्मी हमेशा अपनी सेवा देने के लिए तत्पर होते हैं परंतु क्या आपको पता है कि जब कोई वीआईपी आदमी चाहे वह देश का प्रधानमंत्री हो के मंत्री हुए कोई फिल्मी हस्ती हो क्रिकेटर हो या बड़ा बिजनेसमैन हो इन सभी को निजी सुरक्षा कारणों को देखते हुए अलग से केंद्र सरकार द्वारा सिक्योरिटी प्रदान की जाती है जिनको हम चार भागों में बैठते हैं X,Y,Z,Z+ हम आपको Z Plus Security के बारे में विस्तृत तौर पर बताएंगे हमारे आर्टिकल के अंत तक हम से जुड़े रहिए।

Z Plus Security Kya Hoti Hai?

यह कि उपरोक्त आपको बताया गया कि देश में जितनी भी बड़ी महान हस्तियां होती हैं उनके सुरक्षा कारणों को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा उन्हें हाईकमान की सिक्योरिटी मुहैया कराई जाती है जो कि अलग-अलग श्रेणियों के होती हैं परंतु अंतिम श्रेणी जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होती है वह जेड प्लस सिक्योरिटी होती है जो कि किसी विशेष व्यक्ति या हस्तियों के लिए प्रधान करी जाती है जिनमें प्रधानमंत्री गृह मंत्री मुख्यमंत्री क्रिकेटर बिजनेसमैन अभिनेता आदि इस श्रेणी में आते हैं परंतु किन्ही कब Z Plus Security प्रदान करनी है यह निर्णय केंद्र सरकार के द्वारा लिया जाता है आपको बताते चलें कि प्लस सिक्योरिटी का निर्माण अप्रैल 1985 में किया गया था जब नेतागण तथा उनके साथ साथ देश की महत्वपूर्ण हस्तियों को खुद की सुरक्षा से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ा था तो इसके लिए इस सिक्योरिटी का गठन किया गया।

Z Plus Security

बीसीसीआई क्या है

जेड प्लस सुरक्षा में जवानों की भूमिका:

यदि बात जेड प्लस सिक्योरिटी की करें तो इसमें जवानों की संख्या 32 होती है तथा यह तीन घरों में बिखरे हुए होते हैं जिन के बीचो बीच वह सम्मानित व्यक्ति होता है जिसके लिए यह सुरक्षा प्रदान की जाती है इन बच्चों जवानों के अंतर्गत 10 एनएसजी के जवान भी होते हैं जो कि आमतौर की भाषा में ब्लैक कमांडो कह जाते हैं इसके साथ साथ इस जेड प्लस सुरक्षा के बाद राज्य की पुलिस सम्मिलित होती है तथा इसमें एसपीजी के जवान भी सम्मिलित होते हैं जो कि उक्त व्यक्ति के बिल्कुल पास खड़े होते हैं यदि प्लस सुरक्षा के सम्मिलित जवानों की बात करें तो वह निम्नलिखित ग्रुप से निर्धारित किए जाते हैं:

  • NSG
  • SPG
  • ITBP
  • CISF
  • CRPF
Z Plus Security

Z Plus Security किसको प्रदान की जाती है?

जैसा कि उपरोक्त आपको बताया गया कि Z Plus Security देश के महत्वपूर्ण व्यक्ति को प्रदान की जाती है जिन्हें सुरक्षा कारणों से यदि कोई दिक्कत दिखाई पड़ती है तो उनके लिए जेड प्लस सुरक्षा को मुहैया करा दिया जाता है जिससे उनकी सुरक्षा पर कोई दिक्कत ना आए निम्नलिखित हम उन महत्वपूर्ण व्यक्तियों के बारे में बता रहे हैं जिनको जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की जाती है।

  • प्रधानमंत्री
  • गृहमंत्री
  • कैबिनेट मंत्री
  • राष्ट्रपति
  • उप राष्ट्रपति
  • क्रिकेटर
  • अभिनेता
  • बिजनेसमैन
  • सर्वोच्च न्यायालय के न्यायधीश

तथा उपरोक्त लोगों के साथ साथ उन्हें भी जेड प्लस की सिक्योरिटी प्रदान की जाती है जिन्हें जान को खतरा होता है या फिर किसी कारणवश कोई दिक्कत सामने आती है तो केंद्र सरकार के द्वारा यह सुरक्षा किसी भी व्यक्ति को प्रदान की जा सकती है।

जेड प्लस सुरक्षा का सालाना बजट

जैसा कि आपको बताया गया कि एक जेड प्लस सुरक्षा में 32 कमांडो तैनात किए जाते हैं जिन पर सरकार के द्वारा केंद्रीय बजट में से अलग से एक बजट प्रदान किया जाता है यदि औसतन देखा जाए तो चलाना एग्जिट प्लस सुरक्षा के लिए लगभग 300 करोड़ का बजट लाया जाता है जोगी किसी भी सुरक्षा एजेंसी के लिए सबसे अधिक मानक रखा गया है इसके साथ साथ या बजट हर साल घटता बढ़ता रहता है क्योंकि बीच-बीच में किसी भी विशेष व्यक्ति को व्यक्त प्लस सुरक्षा का आदान-प्रदान होता रहता है।

Leave a comment