जेआरएफ (JRF) क्या होता है- JRF Full Form, योग्यता, परीक्षा पैटर्न व चयन प्रक्रिया

जेआरएफ क्या होता है और JRF Full Form Kya Hota Hai एवं इसकी योग्यता, परीक्षा पैटर्न व चयन प्रक्रिया क्या होती है जाने सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

देश में अभ्यर्थियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है और उतनी ही ज्यादा संख्या में अभ्यर्थी सरकारी नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं तो कुछ अपना शिक्षक बनने का सपना भी रखते है तो आज उन्हीं में से एक हम आपको NET JRF के बारे में बताएंगे जोकि यदि अभ्यार्थी Net Jrf की तैयारी कर के इसकी परीक्षा को उत्तीर्ण कर लेता है तो उसे सहायक प्रोफेसर के तौर पर नौकरी भी प्राप्त हो जाती है तथा उसे UGC Courses में प्रवेश भी मिल जाता है।जिससे अभ्यर्थी पीएचडी की पढ़ाई भी कर सकता है। तो आज के इस Article में हम आपको जेआरएफ से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी आपको विस्तार से बताएंगे।

JRF Kya Hota Hai?

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के द्वारा कराई जाने वाली एक ऐसी परीक्षा जिसमें NET JRF,ICMR,ICAR की अहर्ता को पूर्ण करने के बाद विद्यार्थी जिस परीक्षा को देते है उसे ही JRF(Junior Research Fellowship) कहते हैं यदि उक्त विद्यार्थी इस परीक्षा को उत्तीर्ण कर लेता है तो उसे UGC Courses में Direct Admission प्राप्त हो जाता है तथा उसके साथ ही साथ अभ्यर्थी किसी भी विश्वविद्यालय में एक सहायक प्रोफेसर के तौर पर भी कार्यरत हो जाता है।

जेआरएफ क्या होता है

CUET क्या है

What is the Full Form of JRF?

यदि JRF के Full Form की बात की जाए तो English में ‘Junior Research Fellowship’ के नाम से जानी जाती है तो वही हिंदी में इसे ‘राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा’ भी कहते हैं वैसे तो आमतौर की भाषा में इसे UGC NET की परीक्षा के नाम से भी जानते हैं वर्तमान समय में यूजीसी नेट की परीक्षा में प्रत्येक वर्ष 12 से 15 लाख लोग आते हैं परंतु कुछ ही लोगों का इसमें चयन हो पाता है ये भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक मानी जाती है।

जेआरएफ की परीक्षा कब आयोजित की जाती है

साल में दो बार मई तथा दिसंबर में इस परीक्षा का आयोजन कराया जाता है साल 2018 से पहले इस परीक्षा का आयोजन CBSE के हाथ में था परंतु वर्तमान समय में NTA इस परीक्षा का आयोजन करता है प्रत्येक वर्ष  में 12 से 15 लाख लोग बैठते हैं परंतु इसकी सफलता का प्रतिशत सिर्फ 6% ही होता है। शायद यही कारण है कि इस परीक्षा को भारत के सबसे कठिन परीक्षाओं में गिना जाता है।

JRF की परीक्षा उत्तीर्ण करने का लाभ

वैसे तो हम जानते हैं कि किसी भी परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद उसका लाभ  हमें मिल पाता है तो उसी तरह जेआरएफ(JRF) की परीक्षा को भी यदि उत्तर कर लिया जाए तो इसके अनेकों लाभ हमें प्राप्त होते है जिन्हें हम निम्नलिखित आपको बताने जा रहे हैं।

  1. यदि कोई विद्यार्थी Phd करना चाहता है और वह जेआरएफ की परीक्षा उत्तीर्ण कर चुका है तो वह Direct Phd में एडमिशन ले सकता है उसके लिए उसको दोबारा किसी भी परीक्षा को देने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
  2. किसी भी कॉलेज या विद्यालय में Assistant Professor के पद पर कार्य करने के लिए UGC NET की परीक्षा उत्तीर्ण करना जरूरी होता है।
  3. यदि JRF की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद किसी विद्यार्थी को शोधकर्ता के रूप में नियुक्त किया जाता है तो उसे सरकार के द्वारा Scholarship भी प्रदान की जाती है।
  4. JRF की परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद यदि आप किसी भी सरकारी नौकरी में आवेदन करते हैं तो आपकी नौकरी कि जो Chance होती हैं उसकी 100% की गारंटी प्राप्त हो जाती है।
  5. जेआरएफ करने के बाद आप खुद की लेबोरेटरी खोल सकते हैं।

नीट (NEET Exam) क्या है

जेआरएफ(JRF) करने के बाद प्राप्त होने वाली वित्तीय सहायता

जैसा की उपरोक्त आपको बताया गया कि नेट जेआरएफ को जब आप Qualified कर लेते हैं तो उसके बाद आपको सरकार की तरफ से कुछ Scholarship या फिर वित्तीय सहायता प्राप्त होती है जो कि हम निम्नलिखित आपको बताने जा रहे हैं।

  • सबसे पहले तो यह कि जेआरएफ परीक्षा पास करने के बाद आपको 5 साल के Phd Course में एडमिशन प्राप्त हो जाता है ऐसे में 2 साल के लिए आपको पहले Scholarship प्रदान की जाती है यदि आप अपनी भूमिका पर खरे उतरते हैं तो 3 साल की Scholarship बढ़ा दी जाती है।
  • यदि कोई उम्मीदवार Junior Research Fellowship के तौर पर कहीं कार्यरत हैं या फिर शोध कर रहा है तो उसे प्रतिमाह ₹12000 प्रदान किए जाते हैं।
  • वहीं यदि उम्मीदवार की भूमिका पहले से बेहतर हो जाती है तो अगले 3 साल के लिए उसे Senior Research Fellowship के आधार पर ₹14000 प्रति माह प्रदान किए जाते हैं।
  • यदि कोई उम्मीदवार Humanity के क्षेत्र में Phd कर रहा है तो उसे 2 साल के लिए प्रति माह ₹10000, वही अगले 3 साल के लिए प्रति माह ₹20500 प्रदान किए जाते हैं।
  • यदि कोई उम्मीदवार विज्ञान के क्षेत्र में पीएचडी कर रहा है तो उसे प्रतिमाह 2 साल के लिए ₹10000, वही अगले 3 वर्षों के लिए शोध के लिए उसे प्रतिमाह ₹25000 प्रदान किए जाते हैं
  • यदि कोई उम्मीदवार शहरी क्षेत्र में रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा है या फिर शोध कर रहा है तो भारत सरकार के द्वारा उसे मकान किराया भत्ता भी प्रदान किया जाता है।

जेआरएफ(JRF) की परीक्षा देने के लिए योग्यता व मापदंड

जैसा कि आपको बताया गया कि NET JRF की जो परीक्षा होती है वह पीएचडी में Admission लेने के लिए तथा Research Fellowship करने के लिए की जाती है परंतु उसके लिए कुछ योग्यता एवं मापदंड तैयार किया गया है जो कि हम आपको निम्नलिखित बताने जा रहे हैं।

  • आवेदक को अपने Post Graduation में किसी भी भारत सरकार के मान्यता प्राप्त कॉलेज विश्वविद्यालय से न्यूनतम 55% अंक लाना अनिवार्य है।
  • यदि कोई आवेदक ST/SC,OBC,PWD आदि Category से आता है तो उसे 5% अंक की छूट प्रदान की जाती है।
  • आवेदक की आयु अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए परंतु विशेष कैटेगरी के आरक्षित व्यक्ति को 5 साल की उम्र में छूट प्रदान की जाती है।
  • शिक्षा विभाग के द्वारा एक ऐसा भी मापदंड रखा गया है कि जिन भी आवेदक ने सन 1991 से पहले अपनी Post Graduation की डिग्री हासिल कर ली है उन्हें भी 5% अंकों की छूट प्रदान की जाती है।

जेआरएफ(JRF) में फॉर्म भरने की प्रक्रिया

यदि आप भी JRF करके सरकार के द्वारा Fellowship कार्यक्रम में हिस्सेदारी पाना चाहते हैं तथा वित्तीय सहायता प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको जेआरएफ का Form भरना होगा तथा उसकी परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी तो आइए निम्नलिखित हम यूजीसी नेट(UGC NET) की आवेदन प्रक्रिया के बारे में बताते हैं।

JRF
  • वहां से आपको JRF का Form प्राप्त हो जाएगा जिसको भली भांति भरना होगा जिसमें आपसे आपका नाम, पता, हाई स्कूल इंटर, ग्रेजुएशन,पोस्ट ग्रेजुएशन तथा इससे संबंधित सभी प्रकार की जानकारियां मांगी जाएगी जिसे आपको भर देना है।
  • इतना भरने के बाद आप उसे Submit कर दें जिसके बाद आपको एक Application Number प्राप्त हो जाएगा जिसे आप कहीं Save करके रख ले।
JRF
  • अब अगले चरण में आपसे आपकी Photo तथा हस्ताक्षर Scan करके मांगी जाएगी जिसे आप Scan करके मुहैया करा दे।
  • उसके बाद आपको New Page पर जाना होगा जहां पर Fees देनी होगी जो कि SBI-Mops के द्वारा भरनी होती है।
  • यदि Online आवेदन की फीस की बात करें तो General Category के लिए ₹1000,OBC,Pwd के लिए ₹500 तथा ST/SC के लिए ढाई ₹250 निर्धारित की गई है।

Net Jrf की परीक्षा का पैटर्न क्या है?

आपको बताते चलें कि नेट जेआरएफ की परीक्षा बहुत ही ज्यादा कठिन मानी जाती है इसके लिए अभ्यार्थी को बहुत ही प्रयास करने होते हैं तथा उसे एक बेहतर तैयारी करनी होती है निम्नलिखित हम उसके परीक्षा Pattern की जानकारी आपको देने जा रहे हैं।

  • परीक्षार्थी को Computer Based Test  में दो प्रकार के  देने होते हैं।
  • पहला Test 50 सवाल का तथा दूसरा 100 सवाल का होता है यदि देखा जाए तो NET JRF की परीक्षा 150 सवाल की आयोजित कराई जाती है।
  • प्रत्येक प्रश्न के लिए दो नंबर निर्धारित किए जाते हैं तथा इस में Minus Marking का भी प्रावधान होता है ऐसे में 300 अंकों का जेआरएफ(JRF) का पेपर होता है।
  • 100 अंकों की जो प्रथम परीक्षा होती है उसमें General Nature के साथ-साथ विद्यार्थी की शोध तथा उनकी तैयारी के बारे में पूछा जाता है।
  • दूसरी परीक्षा जो 200 अंकों की होती है वह विद्यार्थी द्वारा चुने गए विषय की होती है जिसमें उसकी तैयारियों को परखा जाता है।

जेआरएफ(JRF) का एग्जाम रिजल्ट कैसे चेक करते है?

जब भी कोई परीक्षार्थी  NET JRF की परीक्षा दे चुका होता है तो उसको बस एक ही प्रकार की समस्या से जूझना होता है कि उसका Result कब आएगा और वह कैसा होगा तो निम्नलिखित हम आपको जेआरएफ की परीक्षा का रिजल्ट कैसे देखते हैं यह भी बताने जा रहे हैं।

Net JRF
  • उसके बाद आपको चयनित अभ्यर्थियों की सूची में जाना होगा।
  • वहां से आप उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की सूची को PDF के द्वारा Download कर सकते।
  • आपको बताते चलें कि Net JRF अब अभ्यर्थी की सूची PDF के माध्यम से निकालता है तो इस List में आप अपने नाम को ढूंढ कर देख सकते हैं।

Leave a comment