Demat Account क्या है और डीमैट अकाउंट कैसे खोलें ?

Demat Account Kya Hai और डीमैट अकाउंट कैसे खोलें एवं इसका उपयोग कैसे किया जाता है व Account Login Kaise Kare

दोस्तों आज हम आपको Demat Account के बारे में बताएंगे कि डिमैट अकाउंट क्या होता है और यह अकाउंट हम कैसे खोलें दोस्तों आज के जमाने में बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने शेयर मार्केट के बारे में नहीं सुना होगा और जो लोग शेयर मार्केट के बारे में जानते हैं उन्हें यह भी पता होता है कि डीमैट अकाउंट क्या है डिमैट अकाउंट में शेयर होल्डर अपने शेयर रखता है जैसे कि हम बैंक अकाउंट में अपने पैसे रखते हैं और शेयर की खरीद-फरोख्त इन्वेस्टर इसी अकाउंट के द्वारा करता है जो डिपॉजिटरी द्वारा खोला जाता है और इससे जुड़ी सभी बातें हैं इस के क्या फायदे हैं डिमैट अकाउंट कैसे खोला जाता है और कहां खोला जाता है Demat Account से जुड़ी सभी जानकारी हम आपको दे रहे हैं जो निम्नलिखित है।

डीमैट अकाउंट क्या है ?

डिमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट है जिसमें आपके द्वारा खरीदे गए शेयर डिपॉजिट किए जाते हैं और इसके साथ साथ म्यूच्यूअल फंड, डिवेंचर, यूनिट और सिक्योरिटी भी इसी खाते में होती है शेयर की खरीद-फरोख्त करने के लिए आपके पास एक डिमैट अकाउंट का होना बहुत जरूरी है Demat Account एक बैंक अकाउंट की तरह कार्य करता है जिसमें आपकी रकम नहीं होती बल्कि किसी कंपनी के शेयर होते हैं जब आप किसी कंपनी के शेयर को बेचना चाहते हैं तो यह दूसरे निवेशक के अकाउंट में यहीं से ट्रांसफर हो जाते हैं

जिस प्रकार आप बैंक अकाउंट से मनी ट्रांसफर करते हो। इससे पहले यह प्रक्रिया बड़ी मुश्किल थी पहले जब आप शेयर खरीदते थे तो आपको कंपनी उसके डॉक्यूमेंट देती थी और जब आपको शेयर बेचने होते थे तो सारे कागजात कंपनी में डिपॉजिट करने पड़ते थे लेकिन जब से डिपॉजिटरी ने Demat Account की प्रक्रिया को शुरू किया है यह काम बहुत आसान हो गया है।

Demat Account

DBT Transfer क्या है 

डीमैट अकाउंट के प्रकार क्या है?

शेयर मार्केट में उपलब्ध तीन प्रकार के डीमैट अकाउंट होते हैं। इन अकाउंट को निवेशकों की प्रोफाइल के हिसाब से तैयार किया जाता है। डीमैट अकाउंट के प्रकार निम्नलिखित हैं।

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat A6ccount)

शेयर बाजार में एंट्री करने वाले निवेशक को का रेगुलर डीमैट अकाउंट खोला जाता है। यह खाता आप किसी भी डिपॉजिट सीडीएसएल या एनएसडीएल पन रजिस्टर ब्रोकर के पास खुलवा सकते हैं। इस खाते के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिकली शेयरों में निवेश और ट्रेड किया जाता है।

रिपेट्रायबल डीमैट खाता (Repatriable Demat Account)

यह खाता नॉनरेजिडेंट इंडियंस के लिए होता है। इस खाते के माध्यम से n.r.i. शेयर बाजार में निवेश करते हैं। एन आर आई इस अकाउंट का उपयोग करके विदेश में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। साथ ही साथ लोग इस अकाउंट इन इयर जॉइंट होल्डर भी शामिल कर सकते हैं जो केवल एक भारतीय नागरिक होना चाहिए। इस डीमैट खाते में नॉमिनेशन सुविधा भी उपलब्ध होती है।

नॉन रिपेट्रायबल डीमैट खाता (Non-Repatriable Demat Account)

यह खाता भी एन आर आई के लिए होता है परंतु इस खाते से कोई भी विदेश में फंड ट्रांसफर नहीं किए जा सकते। इस खाते में लोगों को एनआरओ बैंक अकाउंट की आवश्यकता नहीं पड़ती है। यह खाता वह लोग खोलते हैं जिनकी आय भारत और विदेश दोनों में उपलब्ध है।

Demat Account खोलने से पहले किन बातों का ध्यान रखना है?

यदि आप भी अपना डीमैट खाता खोलना चाहते हैं तो आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना है:-

  • जहां कोई अपने शहर रखता है वहां खाता खोल सकते हैं और उसकी सुरक्षा इलेक्ट्रॉनिक तरीके से की जाती है।
  • आप भारत में शेयर बेचना और खरीदना चाहते हैं तो आपका डीमेट खाता होना अनिवार्य है।
  • अगर आप अपने शेयरों को इनिशियल पब्लिक आफरिंग मैं लागू करना चाहते हैं तो आपके पास डीमैट खाता होना अनिवार्य है।

Demat Account कैसे खोलें

जब आप अपना खाता डिपॉजिटरी में खुलवाते हैं तो उस खाते को डीमैट खाता कहते हैं इसका फैसला हमारा ब्रोकर करता है कि वह कौन सी डिपॉजिटरी में आपका खाता खुलवाता है इस खाते को खुलवाने के लिए भारत में एसईबीआई के द्वारा निर्देशित दो बड़ी डिपॉजिटरी कंपनी एनएसडीएल और सीडीएसएल है जो Demat Account को निर्धारित करती हैं और आपने देखा होगा कि पैन कार्ड भी यही दोनों कंपनियां बनाती हैं। जो निम्नलिखित हैं।

1- एनएसडीएल 

इंडिया की सबसे पुरानी और विश्वसनीय डिपाजिटरी मानी जाती है नवंबर सन 1996 में इसको शुरू किया गया था जिसका पूरा नाम National Securities Depositories Ltd है।

2- सीडीएसएल

  • यह इंडिया की दूसरी डिपॉजिटरी है जिसका संबंध बीएसई यानी मुंबई स्टॉक एक्सचेंज से है इसको फरवरी सन 1999 में शुरू किया गया था इसका पूरा नाम Central Depositories Services Ltd है ।
  • डिमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपको इन दोनों कंपनियों के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती है आप किसी भी बैंक या स्टॉक ब्रोकर के पास जाकर अपना डिमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं।
Demat Account
SBI Mein Demat Khata Kaise Kholen

कुछ खास स्टॉक ब्रोकर

इसके अलावा आप कुछ खास स्टॉक ब्रोकर के यहां भी अपना Demat Account खुलवा सकते हैं।

  • शेरखान प्राइवेट लिमिटेड 
  • ज़ेरोधा 
  • एंजल ब्रोकर प्राइवेट लिमिटेड

Demat Account खुलवाने के लिए जरूरी दस्तावेज

डिमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है 

  • पैन कार्ड 
  • आधार कार्ड  
  • पासपोर्ट साइज फोटो 
  • बैंक बैंक अकाउंट नंबर 
  • पासपोर्ट या राशन कार्ड ( एड्रेस प्रूफ के लिए)

डिमैट अकाउंट फीस

डीमैट अकाउंट खोलने की फीस अलग-अलग बैंकों और स्टॉकब्रोकर्स की अलग अलग हो सकती है इसके अलावा एनुअल मेंटेनेंस चार्ज भी होते हैं जो साल में एक बार लिए जाते हैं

डिमैट अकाउंट फीस

Demat Account नॉमिनेशन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जिस तरह आप बैंक अकाउंट, एफडी, ऑल लाइफ इंश्योरेंस में नॉमिनी का नाम भरते हैं उसी प्रकार डिमैट अकाउंट में भी नॉमिनी का होना जरूरी है जिस वक्त आप डिमैट अकाउंट खोलने के लिए फॉर्म भरे तो अपने नॉमिनी का नाम जरूर भरें यह आपके सुरक्षित भविष्य के लिए बहुत जरूरी है।तो दोस्तों इस तरह आप अपना Demat Account खुलवा सकते हैं और स्टॉक एक्सचेंज से शेयरों की खरीद-फरोख्त भी आसानी से कर सकते हैं।

Leave a comment