एसडीओ (SDO Officer) क्या होता है- SDO Full Form, एसडीओ कैसे बने जाने हिंदी में

0
76

SDO Officer Kya Hota Hai | एसडीओ कैसे बने | SDO Full Form Kya Hoti Hai | एसडीओ ऑफिसर के कार्य क्या है | एसडीओ ऑफिसर की सैलरी

आज के समय में लगभग हर इंसान पैसा कमाने के साथ साथ मान सम्मान भी प्राप्त करना चाहता है इसलिए आज कल के युवा प्राइवेट सेक्टर से ज़्यादा सरकारी सेक्टरों में नौकरी का चुनाव करना ज़्यादा पसन्द कर रहे हैं। क्यूंकि सरकारी नौकरी में जॉब सिक्योरिटी के साथ साथ और भी बहुत सारी फैसिलिटी प्राप्त होती हैं। लेकिन सरकारी नोकरी प्राप्त करना इतना आसान नहीं होता है जितना लोग समझते हैं। वो कहते हैं ना किसी भी कार्य में सफल होने के लिए हार्ड वर्क बहुत ज़रूरी होता है इस तरह गवर्मेंट जॉब पाने के लिए भी कठिन परीक्षा से गुजरना पड़ता है। तो चलिए फिर आज हम आपको ऐसे ही एक सरकारी पोस्ट जिसे एसडीओ ऑफिसर कहते हैं उससे संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान करेंगे। अगर आप भी एसडीओ ऑफिसर बनने के इच्छुक है तो हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि इससे आपको काफी सहायता मिलेगी।

SDO Officer Kya Hota Hai

एसडीओ की फुलफॉर्म “Sub Division Officer” होती है जिसे हिंदी भाषा में “उप -विभागीय अधिकारी” कहते हैं। एसडीओ ऑफिसर की नियुक्ति राज्य के प्रत्येक विभाग में की जाती है चाहे वह बिजली विभाग या फिर पुलिस या फिर सिंचाई विभाग आदि। देश के लगभग सभी राज्यों के प्रत्येक शहर में और जिले में एक एसडीओ अफसर नियुक्त किया जाता है जो सरकार की व्यवस्था को अच्छे तरीके से चलाने के लिए कार्य करता है। इस पद के लिए चुनाव राज्य सरकार द्वारा किए जाते हैं। प्रत्येक एसडीओ अधिकारी का मुख्य कार्य यही होता है कि उसे जिस डिपार्टमेंट के नियम नियुक्त किया गया है उस विभाग के द्वारा होने वाले कार्य की अच्छी तरीके से जांच और उनकी सारी फाइलो को अच्छे तरीके से चेक करना।

 SDO Officer का कार्य बहुत ही जिम्मेदारी का होता है क्योंकि एसडीओ अफसर के बिना किसी भी कार्य को नहीं किया जा सकता है। एसडीओ अफसर राज्य के अधीन कार्य करते हैं और इनकी नियुक्ति का कार्य भी राज्य सरकार द्वारा ही किया जाता है।

एसडीओ (SDO Officer) क्या होता है-

एसडीओ ऑफिसर के कार्य

  • प्रत्येक एसडीओ अधिकारी का मुख्य कार्य यही होता है कि उसे जिस डिपार्टमेंट के नियम नियुक्त किया गया है उस विभाग के द्वारा होने वाले कार्य की अच्छी तरीके से जांच और उनकी सारी फाइलो को अच्छे तरीके से चेक करना।
  • साथ ही साथ एसडीओ का यह भी कार्य होता है कि उसके  डिपार्टमेंट के सभी कार्य सही तरीके से चल रहे हैं या नहीं।
  • एसडीओ की जांच के बिना डिपार्टमेंट का कोई भी कार्य नहीं किया जा सकता।
  • एसडीओ का मुख्य कार्य सरकारी डिपार्टमेंट के सभी कार्य को सुचारू रूप से चलाने का होता है।
  • इस पोस्ट कि नियुक्ति और सिलेक्शन राज्य सरकार द्वारा किया जाता है।
  • प्रत्येक विभाग का एसडीओ अलग होता है। जैसे पुलिस विभाग, बिजली विभाग, सिंचाई विभाग आदि ।
  • इसके साथ ही एसडीओ छोटे अधिकारियों के लिए जनता द्वारा शिकायत आने पर उनकी शिकायत की सुनवाई भी करता है।
एसडीओ कैसे बने

एसडीओ ऑफिसर की परीक्षा

SDO Officer बनने के लिए आपको तीन परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है जिसमें से दो परीक्षाएं लिखित होती हैं और तीसरा और अंतिम चरण इंटरव्यू का होता है। यदि आप इन तीनों परीक्षाओं को सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं तो आप एसडीओ ऑफिसर के लिए नियुक्त कर लिए जाएंगे लेकिन अगर आप गलती से भी किसी एक परीक्षा में फेल हो जाते हैं तो आपको इस पद के लिए नियुक्त नहीं किया जा सकता। इसलिए अगर आप एसडीओ ऑफिसर बनने में रुचि रखते हैं तो आपको बहुत ज्यादा कठिन परिश्रम करना होगा।

1- प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

सबसे पहले आपको फर्स्ट स्टेप में प्रारंभिक परीक्षा देनी होती है जिसमें 2 पेपर होते हैं और यह दोनों पेपर 200 200 अंक के होते हैं मतलब की कुल मिलाकर 400 अंक आपको इस पेपर के लिए मिलते हैं। इस क्वेश्चन पेपर में बहुविकल्पीय प्रश्न आते हैं। आने वाले क्वेश्चन मैथ्स, रेजनिंग, और जनरल नॉलेज से संबंधित होते हैं।

2- माईनस एग्जाम (Mains Exam)

अब बात करते हैं दूसरे पेपर की यह लिखित पेपर आप कभी दे सकते हैं जब आप पहले पेपर में पास होते है। यह परीक्षा भी लिखित होती हैं।

जिसमें आप से हिंदी, इंग्लिश और कम्युनिकेशन से रिलेटेड क्वेश्चन पूछे जाते हैं।

3- इंटरव्यू (Interview)

जो विद्यार्थी पहले और दूसरे एग्जाम्स में पास करते हैं उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इंटरव्यू आपकी सेल्फ कॉन्फिडेंस कम्युनिकेशन स्किल मेन्टल एबिलिटी की परीक्षा ली जाती है। इंटरव्यू में आपसे आपके ग्रेजुएशन के विषय से भी क्वेश्चन पूछे जाते हैं और बहुत सारे सामान्य ज्ञान के प्रश्न भी पूछे जाते हैं।

एसडीओ ऑफिसर की सैलरी

वैसे तो एसडीओ ऑफिसर की सैलरी 23640 रुपए के आसपास होती है जिसमें और भी बहुत सारी सुविधाएं भी प्रदान की जाती है। सभी सुविधाओं और भत्ते को प्लस करने के बाद लगभग 51378 रुपए तक की सैलरी प्रति माह मिलती हैं। जबकि सीनियर पोस्ट के अधिकारी की सैलरी इससे अधिक होती है। इन सब के अलावा अन्य सुविधाएं जैसे कि रहने के लिए आवास फ्री टेलीफोन की सुविधा और एक सरकारी वाहन भी प्राप्त होता है।

Eligibility Of SDO Officer

  • एसडीओ बनने के लिए आपकी आयु लगभग 21 से 30 वर्ष के बीच होनी अनिवार्य है।
  • वहीं ओबीसी और एससी, एसटी श्रेणी के उम्मीदवारों को उम्र में 3 और 5 साल की में छूट प्राप्त है।
  • एसडीओ की Exam में बैठने के लिए आपके पास सम्बन्धित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री अनिवार्य है।
  • SDO Officer बनने के लिए किसी भी विषय के विधार्थी आवेदन कर सकते हैं जैसे मेडिकल, इंजीनियरिंग, कॉमर्स, आर्ट्स लेकिन उनका ग्रैजुएट होना आवश्यक होता है।

एसडीओ ऑफिसर केसे बने

जैसे कि हमने आपको बताता कि ये एक सरकारी पद होता है और इसकी नियुक्ति और सिलेक्शन राज्य सरकार द्वारा किया है। एसडीओ ऑफिसर का सिलेक्शन सिविल सर्विस परीक्षा के द्वारा किया जाता है और यह परीक्षा राज्य सरकारों द्वारा ही आयोजित की जाती हैं। लगभग हर राज्य में प्रत्येक वर्ष लोक सेवा आयोग द्वारा SDO के चयन के लिए परीक्षा का आयोजन किया जाता है और इच्छुक उम्मीदवार इस परीक्षा फॉर्म को भरकर यह परीक्षा दे सकते है। और दूसरा तरीका है प्रोमोशन के जरिए भी आप एसडीओ बन सकते हैं। इसका मतलब है कि अगर कोई कर्मचारी सिविल सर्विस के किसी विभाग मे काम कर रहा है तो उसके काम को देखते हुए उसकी प्रोमोशन से उसे SDO Officer बनाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here