विकसित और विकासशील देश किसे कहते हैं- सूची देखे और अंतर जाने हिंदी में

विकसित और विकासशील देश किसे कहते हैं और Viksit Aur Vikassheel Desho की सूची कैसे देखे तथा इन दोनों के बीच में अंतर क्या है

वर्तमान समय में विश्व में लगभग 200 देश है जिन्हें दो श्रेणियों में बांटा गया है पहला विकसित देश तथा दूसरा विकासशील से जाना जाता है विकसित और विकासशील देशों को समझना अत्यंत जटिल प्रश्न है क्योंकि हर देश अपने आप को विकसित मानता है परंतु कुछ मानक के अनुरूप पूर्ण नहीं होते हैं विकसित और विकासशील देशों को जानने के लिए कुछ मानक भी तय किए गए हैं जिसके अनुसार यदि उस मानक में भली-भांति कोई देश आता है तो उसे मानक अनुरोध श्रेणी प्रदान की जाती है जिसका मुख्य उदाहरण आर्थिक विकास से होता है बहुत से ऐसे देश है

जो आर्थिक विकास में बहुत आगे निकल गए हैं जो विकसित तौर पर जाने जाते हैं परंतु कुछ ऐसे भी हैं जिनके आर्थिक विकास दर बहुत धीरे है जिसके कारण वह विकासशील देशों के लिस्ट में आते हैं परंतु वह  विकसित होने के लिए निरंतर प्रयास करते रहते हैं।

विकसित तथा विकासशील देश से संबंधित महत्वपूर्ण बातें:

कुछ समय पहले विकसित देशों को काफी धनी देशों में गिना जाता था और उन्हें बहुत समृद्ध देशों की लिस्ट में रखा जाता था परंतु विकासशील देशों को पिछड़े एवम निर्धन देशों की संज्ञा दी जाती थी लेकिन 1949 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति ट्रूमैन ने विकासशील देश को अल्प विकसित देश से संबोधित किया जो अभी भी चला आ रहा है। आज इस Article के माध्यम से विकसित एवं विकासशील देशों के बारे में आपको पूरी जानकारी दी जाएगी तथा बताया जाएगा कि किस तरह से इन्हें अलग-अलग श्रेणियों में रखा जाता है इसके बीच के अंतर की भी जानकारी आप तक पहुंचाई जाएगी।

विकसित और विकासशील देश

दुनिया के सात अजूबे कौन से हैं

1.विकसित देश

यदि किसी राष्ट्र में आर्थिक स्तर की दर कुछ होती है या फिर कृषि उद्योग परिवहन व्यापार आदि क्षेत्रों में बढ़ावा देखने को मिलता है जो निरंतर जारी रहता है वह विकसित देशों के लिस्ट में गिना जाता है यदि बात करें तो प्राकृतिक एवं मानवीय संसाधनों का प्रयोग अधिक किया जाता है या राष्ट्र की जीडीपी निरंतर बढ़ती रहती है यह सभी प्रविधि विकसित देशों की मानी जाती है ऐसे देशों में वैज्ञानिक संसाधनों का भी अधिक से अधिक प्रयोग किया जाता है एवं निरंतर विकास बढ़ता ही रहता है। यदि कोई राष्ट्र अपने संसाधनों का अधिक से अधिक प्रयोग करके आधिकारिक तौर पर विश्व में आयात निर्यात के व्यवस्था को सुचारू रूप से चालू किए रहता है वह विकसित देशों की लिस्ट में गिना जाता है।

विकसित देशों की विशेषताएं

  • उच्च जीवन स्तर
  • उच्च GDP
  • परिवहन व्यवस्था का उच्च स्तर होना
  • उच्च बाल कल्याण व्यवस्था
  • शैक्षिक एवम संचार व्यवस्था की सुविधाएं संपूर्ण राष्ट्र में सुचारू रूप से होना
  • तकनीकी क्षेत्र में अग्रसित होना
  • प्रति व्यक्ति आय उच्च होना
  • अच्छे मकान एवम रहन सहन की स्तिथि बेहतर होना
  • औद्योगिक क्षेत्र में बेहतर होना
  • स्वास्थ व्यवस्था बेहतर होना

कुछ विकसित देशों की लिस्ट

  • कनाडा
  • संयुक्त राज्य अमेरिका
  • नार्वे
  • फ्रांस
  • न्यूजीलैंड
  • फिनलैंड
  • आइसलैंड
  • जापान
  • स्वीडन
  • नीदरलैंड
विकसित और विकासशील देश

2.विकासशील देश

यदि विकासशील देशों की बात करें तो यह हमेशा ही विकास करने के लिए प्रयास करते रहते है परंतु विकसित देशों की अपेक्षा यह बहुत ज्यादा इस क्षेत्र में आगे नहीं बढ़ पाते।इनका GDP निम्न स्तर तक भी पहुच जाता है,कभी कभी विकासशील देशों को आर्थिक तंगी से भी गुजरना पड़ता है,सुखा ग्रस्त जैसी दिक्कत इस श्रेणी के देशों में ज्यादातर देखने को मिलती है।आर्थिक व्यवस्था हमेशा ही यहां की निम्न स्तर तक पहुंच जाती है जो काफी चिंता का विषय माना जाता है।विकासशील देशों की सबसे बड़ी समस्या जनसंख्या वृद्धि से है। यहां साल दर साल जनसंख्या बढ़ती ही रहती है जिससे अर्थव्यवस्था में ज्यादा असर होता है।

विकसित देशों की विशेषताएं

  • जीवन स्तर सामान्य होता है परंतु कभी कभी निम्न स्तर तक भी पहुंच जाता है
  • GDP स्थाई नहीं रहती है,काम ज्यादा होने का अनुमान लगा रहता है
  • शिक्षा व्यवस्था कही कही निम्न होती है और कुछ हिस्सों में बढ़ावा भी देखने को मिलता है
  • कुछ हिस्सों में मकान एवम रहन सहन सामान्य होता है
  • स्वास्थ व्यवस्था भी सामान्य स्तर की देखने को मिलती है
  • औद्योगिक क्षेत्रों में विकास की ओर अग्रसर
  • तकनीकी व्यवस्था भी बढ़ने का अनुमान
  • परिवहन व्यवस्था सुचारू,परंतु थोड़ा जटिल

कुछ विकासशील देशों की लिस्ट

  • चीन
  • भारत
  • अर्जेंटीना
  • ब्राजील
  • सिंगापुर
  • बारबाडोस
  • चिली
  • दक्षिण कोरिया
  • हांगकांग
  • बहामा

विकसित और विकासशील देशों की बीच अंतर

viksit aur vikassheel desho की श्रेणी में आने वाले देशों के बीच बहुत से अंतर देखने को मिलता है जिससे यह अनुमान लगाया जाता है की किस किस देश को कौन सी श्रेणी में रखा जाए,निम्नलिखित कुछ अंतर बताए गए है

  • विकसित देशों की जीडीपी हमेशा बढ़ती रहती है जिसका अर्थव्यवस्था पर पूर्ण रूप से असर पड़ता है परंतु विकासशील देश केजीटीपी प्राया स्थिर के साथ-साथ निम्न स्तर तक भी पहुंच जाती है।
  • विकसित देशों की जनसंख्या स्थिर रहती है तथा उस पर नियंत्रण किया जाता है परंतु विकासशील देशों के सबसे बड़ी समस्या जनसंख्या वृद्धि होती है जिसका असर रहन-सहन एवं अर्थव्यवस्था पर भी पड़ता है।
  • Viksit Desho की आय जहां $4000 से $12000 तक मानी जाती है वही विकासशील देशों की आय जनसंख्या वृद्धि के कारण लगभग $1000 तक ही सीमित रहती है।
  • विकसित देशों की साक्षरता हमेशा उच्च स्तर की होती है परंतु विकासशील देशों में साक्षरता प्रतिशत काफी कम होता है।
  • जहां विकासशील देश कृषि क्षेत्रों में आश्रित रहते हैं वहीं विकसित देश औद्योगिक क्षेत्रों में हमेशा बढ़ते रहते हैं।
  • विदेशी व्यापार की बात करें तो विकसित देश हमेशा इसको आगे बढ़ाता है परंतु विकासशील देशों में यह काफी निम्न स्तर पर आयात निर्यात का कार्य होता है।
  • वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो विकसित देश हमेशा ही नए नए अविष्कारों पर अध्ययन करता है परंतु विकासशील देशों में यह स्तर अभी काफी कम देखने को मिलता है परंतु विकासशील देश के प्रति धीरे-धीरे अग्रसर होता जा रहा है।
  • विकसित देश रोजगार की दृष्टि से काफी सफल माना जाता है परंतु और विकासशील देश में वर्तमान में भी रोजगार का अभाव देखने को मिलता है।

Leave a comment