कॉलेज लेक्चरर (Lecturer) कैसे बने- Lecturer या Professor बनने के आसान तरीके

0
33

दोस्तों आज  हमारा विषय है कि कॉलेज प्रोफेसर कैसे बनते हैं? जैसे कि आप जानते हैं कि पढ़ाई जिंदगी का सबसे इंपॉर्टेंट हिस्सा है। लाइफ में  एक सफल इंसान बनने के लिए पढ़ाई कितनी जरूरी है। यह पढ़ा लिखा इंसान ही समझ सकता है लोगों को पढ़ाई में काफी इंटरेस्ट होता है। इसलिए कुछ लोग टीचर बनना चाहते हैं और उन लोगों को पढ़ाई में इतनी रुचि होती है कि वह टीचर बनने के बाद भी सोचते हैं कि कॉलेज में प्रोफेसर या लेक्चरर बन जाए।  लोग लेक्चरर बनना तो चाहते हैं पर उन्हें इसके बारे में पता नहीं होता है कि वह कैसे एक कॉलेज प्रोफेसर बन सकते हैं।  कॉलेज लेक्चरर व प्रोफेसर बनने के लिए क्या करना चाहिए? तो आइए आज हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं |

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए क्या किया जाता है?

कॉलेज में प्रोफेसर बनने के लिए एक सब्जेक्ट स्पेशलिस्ट होना पड़ता है और एक प्रोफेसर बनने के लिए आपको काफी मेहनत करनी पड़ती है। आप डायरेक्टली एक प्रोफेसर नहीं बन सकते आपको उसके लिए काफी सारे एग्जाम देने होते हैं फिर आपको असिस्टेंट प्रोफेसर की जॉब मिलती है कॉलेज उसके बाद एक्सपीरियंस होने पर आपको एक प्रोफेसर की जॉब प्रदान करती है।

College Lecturer बनने की प्रक्रिया क्या है?

कॉलेज प्रोफेसर बनने के लिए आपको पहले अपनी ग्रेजुएशन पूरी करनी चाहिए। ग्रेजुएशन के बाद आपको अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी करनी चाहिए और पोस्ट ग्रेजुएशन में आपके कम से कम  55% मार्क्स होने अनिवार्य हैं।

कॉलेज प्रोफेसर बनने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

1: स्कूल पूरा करें: लाइफ में कुछ भी बनने से पहले हमें अपना स्कूल पास करना होता है। बिना स्कूल पास किए हम कुछ नहीं बन सकते चाहे वकील हो या डॉक्टर हो  या प्रोफेसर हो। इसीलिए प्रोफेसर बनने के लिए आपको अपने फेवरेट सब्जेक्ट में  12 वि पास करना होगा वह भी अच्छे मार्क्स के साथ।

2:  अपना फेवरेट सब्जेक्ट चुने:  जो लोग प्रोफेसर बनना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले अपना फेवरेट सब्जेक्ट चुनना होता है। फेवरेट सब्जेक्ट  चुनने के बाद उसको इसे अच्छी तरह से पढ़ना होगा।

3:  ग्रेजुएशन करें:  प्रोफेसर बनने के लिए आपको अपनी ग्रेजुएशन डिग्री लेनी पड़ेगी।  ग्रेजुएशन आप अपने फेवरेट सब्जेक्ट से करें जिसे सब्जेक्ट से आप प्रोफेसर बनना चाहते हैं। आपका इंटरेस्ट जिस सब्जेक्ट में होगा उसी सब्जेक्ट से आप ग्रेजुएशन करके प्रोफेसर बन सकते हैं।

4:  पोस्ट ग्रेजुएशन करें:  ग्रेजुएशन के बाद आपको पोस्ट ग्रेजुएशन में मास्टर डिग्री लेनी होगी अपने फेवरेट सब्जेक्ट से और उस  डिग्री को 55% मार्क्स से पास करना पड़ेगा।

5: UGC NET  टेस्ट के लिए अप्लाई करें:  आपके ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद आप कॉलेज में एक लेक्चरर बनने के लिए तैयार हैं। लेकिन उससे पहले आपको कुछ एग्जाम देने होंगे और उनको क्लियर करना होगा बिना उस एग्जाम को क्लियर करें किसी भी कॉलेज में लेक्चरर या प्रोफेसर आप नहीं बन सकते इस एग्जाम को बोलते हैं UGC NET अगर आप इसको क्लियर कर लेते हैं तो उसके बाद एक  लेक्चरर बन सकते हैं और कॉलेज में पढ़ा सकते हैं।

लेक्चरर की सैलरी कितनी होती है?

Lecturer की सैलरी काफी अच्छी होती है और उनकी सैलरी कुछ चीजों पे डिपेंड होती है जैसे कि वह कहां जॉब कर रहे हैं और उन्हें कितना एक्सपीरियंस है।  वैसे एवरेज सैलेरी एक लेक्चरर की होती है  रु 40,000 से रु 90000 प्रतिमाह।

लेक्चरर बनने की आयु सीमा क्या होती है?

लेक्चरर बनने के लिए कोई निर्धारित आयु नहीं होती है। जूनियर रिसर्च फेलोशिप के लिए आयु 21 से 28 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। अथवा एससी एसटी ओबीसी अभ्यार्थियों को छूट प्रदान की जाती है।

Conclusion

दोस्तों  उम्मीद करती हूं  के आपको मेरे आर्टिकल के माध्यम से समझ आ गया होगा  लेक्चरर  बनने के लिए क्या प्रक्रिया होती है। अथवा उसके  लिए क्या पढ़ाई की जाती है अगर आपको लेक्चरर बनना है तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें। आगे भी इसी तरह और जानकारी आपको प्राप्त होती रहेगी हमारी वेबसाइट के द्वारा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here