डाटा कम्प्रेशन ( What Is Data Compression) क्या होता है और इसके प्रकार जाने हिंदी में

डाटा कम्प्रेशन क्या होता है और ये कितने प्रकार का होता है एवं Data Compression के फायदे क्या है व इसके नुकसान तथा फायदे क्या होते है

जैसा कि आपको पता है कि यह दौर Internet का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करने वाले युग में गिना जाता है क्योंकि इंटरनेट लगभग पूरे विश्व में फैल चुका है उन्हें इंटरनेट के माध्यम से जब भी हम कोई भी File डाउनलोड करते हैं वह ZIP Format में या RAR File Format में उपलब्ध होती है। क्या आपको पता है कि यह दोनों ही फॉर्मेट को हम क्या कहते हैं इससे हम Data Compression के नाम से जानते हैं आज इसी डाटा कंप्रेशन (Data Compression) के बारे में हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे कि डाटा कंप्रेशन(Data Compression) क्या होता है इसके कितने प्रकार हैं(Types of Data Compression in hindi) तथा इसके फायदे और हानि, सभी प्रकार की जानकारी आपको पूर्ण रूप से दी जाएगी तो आइए आगे की जानकारी के लिए हमारे साथ इस लेख के अंत तक जुड़े रहिए।

डाटा कंप्रेशन(Data Compression) क्या होता है?

Data Compression एक प्रकार की ऐसी प्रक्रिया होती है जिसके द्वारा जो डाटा बिट्स होता है वह रिड्यूस हो जाता है जिसके कारण डाटा का जो आकार होता है वह काफी कम हो जाता है जिसकी मदद से स्टोरेज क्षमता और फाइल ट्रांसफर बहुत ही तेज गति से होने लगता है जो कि काफी आसान प्रक्रिया में किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में डाटा को कंप्रेस करने के लिए एल्गोरिथ्म फार्मूले का प्रयोग किया जाता है जिस की सहायता से हम डाटा को कल स्टोर में ट्रांसीट बहुत ही आसानी से कर सकते हैं। यह बहुत ही आसान प्रक्रिया होती है उदाहरण के तौर पर अगर बात करें तो मान ले कि किसी भी गाने को डाउनलोड करने के लिए हमारे पास बहुत से विकल्प होते हैं इसमें गानों की Size 2MB,4MB,6MB होती है उनमें से हम डाटा कंप्रेशन का इस्तेमाल करके आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

डाटा कम्प्रेशन

डाटा कंप्रेशन(Data Compression) के प्रकार:

जैसा आप को पहले से ही पता है कि आज के समय में इंटरनेट के दौर में कई प्रकार के डाटा कंप्रेशन का इस्तेमाल किया जाता है इसमें एल्गोरिदम फार्मूले का भी उपयोग होता है परंतु अगर सामान्य तौर पर डाटा कंप्रेशन की बात की जाए तो यह मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं जो कि निम्नलिखित आपको विस्तृत तौर पर बताए जा रहे हैं:

  • Lossy Data Compression
  • Lossless Data Compression

1.Lossy Data Compression

इस कंप्रेशन में डाटा पूरी तरह से नष्ट हो जाता है या फिर सरल भाषा में बोले तो जिसमें कंप्रेशन की हानि प्रतीत होती है उससे हम Lossy Data Compression कहते हैं यदि हम लूसी डाटा कंप्रेशन की बात करें तो इसमें Photo,Video, Graphic आदि को यदि एक बार Delete या Erase कर दिया गया है तो वह दोबारा से Decompressed नहीं हो सकता है वह पूरी तरह से नष्ट हो जाता है तथा इसे दोबारा वापस से अपनी जगह पर नहीं स्थापित किया जा सकता है इसमें का डाटा हमेशा के लिए डिलीट हो जाता है यह ज्यादातर Image, Video, Graphic आदि में इस्तेमाल किया जाता है।

2.Lossless Data Compression

वह कंप्रेशन जिसके द्वारा किसी भी Data Compression को कम किया जा सकता है लेकिन Delete नहीं किया जाता तथा उसे फिर से Decompressed करके उसकी पुरानी साइज पर उपलब्ध करा जा सकता है ऐसे कंप्रेशन को Lossless Data Compression कहते हैं इसका इस्तेमाल हम किसी भी Documents की फाइल आदि को Size में कम करके भेजने के लिए करते हैं जिसके द्वारा हम इसकी साइज को वापस से उसकी जगह पर भी स्थापित कर सकते हैं जो की बहुत ही आसान तरीके से हो जाता है।

डाटा कम्प्रेशन

डाटा कम्प्रेशन के कुछ फायदे:

किसी भी डाटा कंप्रेशन को करने के लिए कई तरह के फायदे होते हैं जो कि निम्नलिखित बताए जा रहे हैं:

  • डाटा कंप्रेशन(Data Compression) को करने से Storage की बचत होती है क्योंकि यह बहुत ही कम Space लेता है।
  • Data Compression के द्वारा हम किसी भी File को आसानी से छोटा करके जल्दी भेज सकते हैं इसमें समय और इंटरनेट दोनों की ही बचत होती है।
  • डाटा कंप्रेशन को Send करना काफी आसान माना जाता है क्योंकि इसके द्वारा हम बड़े से बड़े फाइल को छोटे साइज में Convert करके आसानी से भेज सकते हैं।

डाटा कम्प्रेशन के कुछ नुकसान:

जैसा कि आपको पता है की यदि किसी चीज में फायदे होते हैं तो कुछ नुकसान भी देखने को मिलते हैं ठीक उसी प्रकार डाटा कंप्रेशन में भी कुछ नुकसान है जो कि निम्नलिखित आपको बताया जा रहे हैं:

  • Data Compression के अंतर्गत कभी-कभी क्या देखने को मिलता है कि कोई भी डाटा loss हो जाता है यदि आप बार-बार किसी भी डाटा के साथ डाटा कंप्रेशन(DC) का इस्तेमाल करेंगे तो वह अपने आप डिलीट हो जाता है।
  • कभी-कभी एक ही File बार-बार भेजने पर वो फाइल की क्वालिटी धीरे-धीरे कम होने लगती है।
  • कभी-कभी क्या होता है कि डाटा कंप्रेशन को ट्रांसलेट करने पर स्क्रीन पर इधर शो होने लगता है जो की सबसे बड़ी समस्या होती है।

Conclusion: निष्कर्ष

उपरोक्त Article के माध्यम से आपको Data Compression के बारे में सभी प्रकार की जानकारी दी गई है कियह क्या होता है इसके कितने प्रकार हैं तथा उसके साथ-साथ आप तो इसके फायदे और नुकसान भी बताए गए हैं यदि भविष्य में कभी आपको इन चीजों की जरूरत पड़ती है जानने के लिए तो आप इस आर्टिकल के माध्यम से पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं हमारा उद्देश्य ही होता है कि रीडर को एक बेहतर तरीके से अपनी बात को समझाने की कोशिश की जाए यदि आपको यह पसंद आया तो यह आर्टिकल दूसरों को भी शेयर करें।

Leave a comment