QR Code क्या है, कैसे काम करता है और QR Code कैसे बनाएं ?

0
277

QR Code Kya Hota Hai | क्यूआर कोड कैसे काम करता है |QR Code Kaise Banaye Jate Hai | क्यूआर कोड बनाने का तरीका क्या है | QR Code Generator With Logo | क्यूआर कोड स्कैन कैसे करे

दोस्तों आज हम बात करेंगे QR Code की यह क्या होता है, और यह कैसे काम करता है ? इसको बनाने की पूरी तरकीब हम आपको बताएंगे आज के डिजिटल युग में हर चीज कंप्यूटर और इंटरनेट से जुड़ी हुई है उसी कड़ी में बारकोड और क्यूआर कोड भी आते हैं। जब हम मार्केट से कोई चीज खरीदने जाते हैं या किसी शॉपिंग मॉल में जाते हैं तो जब हम उसका बिल का भुगतान करते हैं तो जो हमें बिल बना कर दिया जाता है वह एक मशीन के द्वारा क्यूआर कोड या बारकोड को स्कैन करके उसके एमआरपी देखता है और बिल प्रिंट होकर हमारे पास आ जाता है फिर हम उसका भुगतान कर देते हैं यह आधुनिक तरीका है जो सामान हम खरीद रहे हैं उसका रेट देखने के लिए और भी बहुत तरह की की जानकारियां इसमें स्टोर की जा सकती हैं जो सिर्फ इसको रीड करने वाले स्केनर के जरिए ही पढ़ा जा सकता है।

QR Code क्या है?

दोस्तों क्यूआर कोड होता क्या है? यह मैं आपको बताने जा रहा हूं QR Code का मतलब क्विक रिस्पांस कोड है। यह हमारे किसी भी तरह के डाटा की डिजिटल फोमॅ में स्टोर कर लेता है जिसे हम रीड नहीं कर सकते इसे सिर्फ इसकी मशीन के जरिए ही रीड किया जा सकता है आजकल तो स्मार्टफोन मैं भी यह सुविधा आ गई है की स्मार्टफोन भी से स्कैन कर के रीड कर सकता है। यह देखने में एक स्क्वायर शेप का कोड होता है जिसमें काली और सफेद स्पॉट होते हैं ऐसे देखने में हमारी कुछ समझ में नहीं आता कि यह क्या है यह प्रोसेस के जरिए बनाया जाता है क्योंकि यह सिर्फ स्कैनिंग मशीन द्वारा ही रीड किया जा सकता है। यू आर कोड का इस्तेमाल  जापान में  सन 1994 में हुआ जिसको Denso Wave नामक व्यक्ति ने बनाया जो जापान का ही रहने वाला था।

QR Code

QR Code कैसे काम करता है ?

 इस कोड के जरिए हम अपनी जानकारी को डिजिटल फॉर्म में तब्दील कर देते हैं और उसको पढ़ने के लिए हमें एक डिजिटल स्केनर की जरूरत पड़ती है आमतौर पर हम उसे नहीं पढ़ सकते वह सिर्फ हमें स्क्वायर शेप का ही दिखाई देता है इसमें काले और सफेद स्पॉट होते हैं जबकि आमतौर पर डाटा टैक्स के रूप में होता है तो उसे स्कैनर नहीं पढ़ पाएगा।इसमें बहुत सारी इंफॉर्मेशन को स्टोर किया जा सकता है आप QR Code के जरिए भी अपनी जानकारी को शेयर कर सकते हैं इसके जरिए आप प्रोडक्ट ट्रैक को भी अटैंडीफाई कर सकते हैं। यह एक ऑनलाइन प्रोसीजर के जरिए ही बनाया जाता है और उसे पढ़ना एक आम आदमी के बस की बात नहीं है इसे स्केनर मशीन और नए जमाने के स्मार्टफोन ही स्कैन कर सकते हैं।

QR Code कैसे बनाएं

क्यूआर कोड के प्रकार

संरचना कार्य एवं उपयोग के आधार पर क्यूआर कोड को दो वर्गों में विभाजित किया गया है। जो इस प्रकार है-

Static QR Code

स्टैटिक क्यूआर कोड का इस्तेमाल सर्वजनिक जानकारी को फैलाने के लिए किया जाता है और इसे बहुत कम बार संपादित भी किया जाता हैं। इस क्यूआर कोर्ट को पोस्टर्स, टीवी एंड, न्यूजपेपर, मैगजीन आदि ने प्रकाशित किया जाता है। इस कोड का निर्माता जानकारी प्राप्त कर पाता है। जैसे

  • QR Code कितनी बार स्कैन किया गया।
  • जिस डिवाईस से स्कैन हुआ है उसका OS

Dynamic QR Code

डायनामिक क्यूआर कोड एक तरह का लाइव कोड होता है जिसे टाइम टाइम पर संपादित किया जाता है। इसे Unique QR Code के नाम से भी जाना जाता है। इस कोड के निर्माता कई प्रकार की इंफॉर्मेशन को ट्रैक कर सकते हैं जैसे

  • स्कैन करने वाले का नाम
  • ईमेल आईडी
  • कितनी बार स्कैन किया
  • कोड में शामिल जानकारी तक पहुँच
  • Conversation Rate आदि

QR कोड के कार्य

  • क्यूआर कोड का उपयोग आप अपने वाईफाई में कर सकते हैं जैसे आप अपने किसी भी फ्रेंड को पासवर्ड बताने की जगह उसे डायरेक्ट क्यूआर कोड के जरिए कनेक्ट करवा सकते हैं।
  • ग्राहक से क्यूआर कोड से स्कैन करवा कर पेमेंट भी करवा सकते हैं।
  • इसका उपयोग आप फेसबुक पेज के लिए भी कर सकते हैं क्योंकि इसमें फेसबुक पेज का लिंक होगा तो जब भी कोई इस कोड को स्कैन करेगा तो वह आपके फेसबुक पेज पर पहुंच जाएगा।
  • विजिटिंग कार्ड में भी इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • वेबसाइट के लिए भी इसका इस्तेमाल आप आसानी से कर सकते हैं।
  • आप बिना नंबर लिखे SMS भेज सकते हैं। इसके लिए आपको बस एसएमएस भेजने वाले का क्यु आर कोड स्कैन करना पडेगा। स्कैन करते ही नंबर आ जाता हैं।

क्यूआर कोड के लाभ

  • क्यूआर कोड के बहुत से लाभ हैं इसमें बारकोड के मुकाबले बहुत ज्यादा जानकारी स्टोर की जा सकती है।
  • अगर आपको यूट्यूब का कोई लिंक शेयर करना होता है तो उसको भी आप क्यूआर कोड का जरिय दूसरों तक भेज सकते हैं
  • बहुत ज्यादा लंबा टैक्स भेजने की जरूरत नहीं पड़ती जिसको आप भेज रहे हैं उसको स्कैन करके जल्दी आपके लिंक को खोल सकता है
  • यह लिंक आपके वीडियो वेबसाइट या किसी दूसरे लिंग तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसमें आप अपना मैसेज फोन नंबर कूपन और अपने लोकेशन भी क्यूआर कोड के द्वारा भेज सकते हैं जो कि एक डिजिटल फॉर्म में होता है।
  • जब हम किसी शॉपिंग मॉल में है कोई प्रोडक्ट खरीदने जाते हैं तो आपने देखा होगा कि प्रोडक्ट के ऊपर बारकोड या QR Code लिखा हुआ होता है उसे सिर्फ क्यूआर कोड का स्पिनर ही पड़ सकता है
  • इसमें बारकोड के मुकाबले 50 गुना ज्यादा डाटा स्टोर किया जा सकता है जबकि बारकोड में बहुत कम डाटा रहता है।
  • बारकोड को स्कैन करने के लिए डायरेक्शन भी देखना पड़ता है यह बारकोड के मुकाबले ज्यादा आसानी से स्कैन हो जाता है।

क्यूआर कोड को कैसे बनाएं ?

यहां हम आपको बता रहे हैं कि QR Code कैसे बनाया जाता है इसके लिए सबसे पहले हमें अपना गूगल क्रोम खोलना होगा उसके बाद बहुत सी ऐसी वेबसाइट्स हैं जिनके ऑनलाइन टूल के सहायता से आप बहुत आसानी से क्यूआर कोड बना सकते हो इसके लिए पहले हमें इसकी वेबसाइट पर जाना होगा वेबसाइट यह है।

QR Code
  • वेबसाइट जब खुल कर आ जाए तो इस पर अपना यूआरएल डालें।
  • यूआरएल डालने के बाद आपको बहुत सारे ऑप्शन नजर आएंगे।
  • इसके बाद आपको एड क्यूआर कोड का ऑप्शन दिखाई देगा उसको क्लिक करें।
  • आप जिस जानकारी को कि क्योआर कोड में बदलना चाहते हैं उसे लिखें।
  • फिर ऐड ऑप्शन को क्लिक करें।
  • उसके बाद क्रिएट कोड के ऑप्शन को दवाएं।
  • इसके बाद आप देखेंगे स्क्रीन की राइट साइड में आप का क्यूआर कोड बनकर तैयार हो जाएगा।
  • इसके बाद आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं।
  • डाउनलोड करने के बाद इसे सेव कर लिया और जहां आप भेजना चाहते हैं वहां पर सकते हैं।
  • तो दोस्तों आपने देखा क्यूआर कोड बनाना कितना आसान है जिसे आप खुद बना सकते हैं और इस क्यूआर कोड के जरिए आप अपनी जानकारी को गुप्त रखकर कहीं भी भेज सकते हैं।

क्यूआर कोड कितना सुरक्षित है

जैसे कि हमने आपको बताया कि क्यूआर कोड कितना इंपॉर्टेंट हो गया है दैनिक जीवन में। हर चीज के अपने फायदे होते हैं और उसी के साथ-साथ कुछ नुकसान भी होते हैं इसी तरह और कौन हम पूरी तरह से सुरक्षित नहीं कह सकते क्योंकि इसी सिक्योरिटी को बहुत ही आसानी से बदला जा सकता है यह कहे कि इसमें कुछ डेंजर चीजें भी डाली जा सकती हैं। उदहारण के तौर पर बात करे तो यदि कोई क्रिमिनल चाहे तो कोई ऐसी क्यू आर कोड पर अपने किसी moulicious यूआरएल को डाल सकता है और उसे ऐसी जगह फिक्स कर सकता है जहां बहुत ज्यादा ट्राफिक होता है। इसके बाद वो बड़ी ही आसानी से उस सर के मोबाइल में घुस सकता है जिससे काफी खतरा बढ़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here