Direct Mutual Fund क्या है और म्यूचल फंड में कैसे निवेश कर सकते हैं ?

0
170

दोस्तों आज हम आपको Direct Mutual Fund के बारे में बता रहे हैं कि डायरेक्ट म्युचुअल फंड क्या है और इस फंड में कैसे निवेश करें इसी के बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी देंगे और हम आपको यह भी बताएंगे कि म्यूच्यूअल फंड और डायरेक्ट म्युचुअल फंड में क्या फर्क है म्यूच्यूअल फंड और शेयर में क्या फर्क है इस तरह की सभी जानकारी हम आपको देंगे। लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए म्यूचुअल फंड सबसे अच्छा तरीका है इसमें नुकसान की गुंजाइश बहुत कम है इसके मुकाबले पर है शेयर खरीदने में नुकसान की गुंजाइश ज्यादा हो जाती है। इसलिए आज के समय में ज्यादा लोग शेयर खरीदने की वजाऐ म्यूच्यूअल फंड ही खरीद रहे है।

डायरेक्ट म्युचुअल फंड क्या है ?

दोस्तों जब हमें म्यूच्यूअल फंड खरीदना होते हैं तो हम किसी ब्रोकर के जरिए ही म्यूच्यूअल फंड खरीदते हैं और डायरेक्ट म्युचुअल फंड उसे कहते हैं जब हम Direct Mutual Fund कंपनी के ऑफिस जाकर या उसकी वेबसाइट से खरीदते हैं तो हमें ब्रोकर को पैसा देना नहीं पड़ता इसलिए डायरेक्ट म्युचुअल फंड खरीदना ज्यादा अच्छा है इससे हमारा प्रॉफिट बढ़ जाता है।म्यूचल फंड मैनेजर इन्वेस्टर्स का पैसा इकट्ठा करके कई तरह के स्टॉक, सिक्योरिटी, डिवेंचर मनी मार्केट में इन्वेस्ट करता है जिससे जिससे उसकी फंड एनएवी तैयार हो जाती है जो म्यूच्यूअल फंड मार्केट रेट कहलाता है इसकी सहायता से इन्वेस्टर्स को अधिक लाभ पहुंचता है।

Direct Mutual Fund में इन्वेस्ट करने के तरीके

म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट 2 तरीके से किया जा सकता है पहला तरीका तो रेगुलर प्लान वाला है रेगुलर प्लान में हम म्यूच्यूअल फंड किसी फाइनेंशियल एडवाइजर के द्वारा खरीदते हैं जिससे हमें उसकी फीस देनी होती है इसकी वजह से म्यूचल फंड थोड़ा महंगा पड़ता है इसके मुकाबले पर डायरेक्ट प्लान में हम जब मिचल फंड लेते हैं यानी खरीदते हैं तो हम उस म्यूच्यूअल फंड कंपनी से डायरेक्ट खरीदते हैं या उसकी ऑनलाइन वेबसाइट से खरीदते हैं तो हमें म्यूच्यूअल फंड सस्ता पड़ता है और फाइनेंशियल एडवाइजर की फीस भी नहीं देनी पड़ती इसलिए हमें Direct Mutual Fund खरीदना चाहिए।

डायरेक्ट म्युचुअल फंड के फायदे

  •  डायरेक्ट म्युचुअल फंड खरीदना का यह लाभ है कि इसमें रेगुलर प्लान के कंपैरिजन में कम एनएवी होती है।
  • कम, नेट एसेट वैल्यू होने की वजह से हमें म्यूच्यूअल फंड सस्ते पड़ते हैं और हमें किसी ब्रोकर को पैसे नहीं देने पड़ते इसका फायदा डायरेक्ट इन्वेस्टर्स को पहुंचता है।
  • इसके अलावा दोनों प्लांस की फीस में एक दो परसेंट का ही फर्क होता है लेकिन लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट मैं यह फर्क लाखों रुपए का हो जाता है जब आप Direct Mutual Fund में इन्वेस्ट करने का इरादा बना चुके हो तो आपको किसी म्यूचल फंड की दफतर जाकर के दफ्तर म्यूच्यूअल फंड खरीद सकते हैं नहीं तो आप डायरेक्ट म्यूच्यूअल फंड खरीदने के लिए ऑनलाइन वेबसाइट से भी यह काम कर सकते हैं जैसे paisabazaar.com, kuvera.in, paytm app ।
  • तो दोस्तों आपने देखा म्यूच्यूअल फंड खरीदने से बेहतर है कि आपको डायरेक्ट म्युचुअल फंड खरीदें क्योंकि  फाइनेंशियल एडवाइजर की फीस नहीं देनी पड़ती इसलिए लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट में यह फर्क लाखों रुपए का जाकर बैठता है इसलिए आपको डायरेक्ट म्यूच्यूअल फंड ही खरीदना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here