POS क्या है और जानिए पीओएस (POS Full Form) का पूरा नाम हिंदी में

0
195

दोस्तों आज हम आपको पी ओ एस के बारे में बताएंगे यह क्या है और इसकी फुल फॉर्म क्या होती है और इसके क्या कार्य हैं POS को बिक्री बिन्दू कहते हैं। एक दुकानदार के लेन देन का प्रोसेस पूरा करता है पी ओ एस सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का एक सम्मिलित रूप है इसका इस्तेमाल इलेक्ट्रॉनिक कैश रजिस्टर के रूप में किया जाता है यह सब चीजों के बारे में हम आज आपको विस्तार से बताएंगे सीपीओएस क्या होता है।

 पीओएस (POS) क्या होता है

पीओएस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का नाम है और इसकी फुल फॉर्म पॉइंट ऑफ सेल होती है। जिसका इस्तेमाल ज्यादातर मार्केट में बैठे दुकानदार करते हैं क्योंकि आज के इंटरनेट के युग में ज्यादातर खरीदार उन्हीं जगहों से वस्तु खरीदना चाहते हैं जहां पर पीओएस डिवाइस होती है इसलिए ज्यादातर मार्केटर्स ने अपने POS डिवाइस को अपने स्टोर के बाहर इसलिए रख दिया है ताकि ग्राहक को पता चल जाए इस दुकान पर पीओएस की सुविधा उपलब्ध है यह डीजिटल इंडिया की तरफ एक अच्छा कदम है इसलिए अधिकतर लोग इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं इसके द्वारा खरीदारी आसान हो जाती है और आप अपने डेबिट कार्ड के द्वारा इससे खरीदारी कर सकते हैं।

POS

POS Machine कैसे कार्य करती है ?

  • एक प्रकार की अल्ट्रॉनिक डिवाइस है जो सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर से मिलाकर बनाई जाती है यह कैशलेस ट्रांजैक्शन का कार्य करती है यह हर ग्राहक को खरीद की रसीद ऑटोमेटिकली बना कर देती है पीओएस मशीन का इस्तेमाल नोट गिनने के लिए भी किया जा सकता है
  • और यह सिलिप बनाने का काम भी बड़ी आसानी से कर लेती है पीओएस मशीन द्वारा डेबिट कार्ड प्रोसेसिंग फंड ट्रांजैक्शन रिसीविंग पेमेंट का कार्य भी बड़ी सरलता पूर्वक कर सकती है।
  • यह हर तरह के व्यापारिक संस्थान चाहे वह शॉपिंग मॉल हो या पेट्रोल पंप या मोबाइल की दुकान सभी लोग इसका इस्तेमाल करने लगे हैं।
  • यह कंप्यूटर की तरह कार्य करने वाली मशीन है जिसके द्वारा बिल की स्लिप आसानी से निकल आती है इसमें बस हमें अपना डेबिट कार्ड स्वाइप करना होता है। इसमें एक छोटी स्क्रीन लगी होती है जिसे डिस्प्ले कहते हैं उसमें सामान की सारी जानकारी आ जाती है।

पीओएस मशीन कैसे बनती है ?

पीओएस मशीन को हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की सहायता से बनाया जाता है यह एक कंप्यूटराइज इलेक्ट्रॉनिक मशीन के रूप में कार्य करती है। पहले जो व्यापारिक संस्था में काफी भीड़ लग जाती थी लेकिन अब POS प्रक्रिया के द्वारा काम बहुत जल्दी हो जाता है और हर तरह का हिसाब किताब बहुत जल्द लगाकर मशीन के द्वारा उसे स्लिप दे दी जाती है जिसे बिल कहते हैं।

POS मशीन के कंपोनेंट

POS मशीन में दो तरह के कंपोनेंट कार्य करते हैं जिसे सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर करते हैं यहां हम आपको अपनी दोनों कंपोनेंट के बारे में बताएंगे।

सॉफ्टवेयर

पीओएस मशीन डेबिट कार्ड के द्वारा भुगतान करने में सक्षम है इसमें खरीदे गए सामान की सारी जानकारी होती है ग्राहक  को खरीद सिलिप देने का कार्य करती है यह सभी कार्य सॉफ्टवेयर के द्वारा किए जाते हैं इसका कार्य यहीं तक सीमित नहीं है यह ग्राहक द्वारा दी गई पेमेंट डायरेक्ट दुकानदार के अकाउंट में पहुंचा देती है क्योंकि इंटरनेट से कनेक्ट होती है इसमें हाई स्पीड इंटरनेट का कनेक्शन चाहिए होता है यह डेबिट कार्ड की सारी पहचान करने के बाद ही ग्राहक के अकाउंट से पैसे कट कर व्यापारी के अकाउंट में ट्रांसफर कर देती है।

हार्डवेयर

हार्डवेयर किसी भी मशीन के उस पार्ट को कहते हैं जिसे छुआ जा सके जैसे कि कंप्यूटर में मॉनिटर प्रिंटर और सीपीयू उसी प्रकार इस मशीन में भी हार्डवेयर का इस्तेमाल किया जाता है इसमें स्वाइप मशीन के अलावा एक छोटी सी स्क्रीन होती है इसके द्वारा ग्राहक बैंक अकाउंट की जानकारी और सामान की सारी लिस्ट उसमें नजर आ जाती है जिसके द्वारा ग्राहक को सिलिप देने में आसानी होती है

पीओएस मशीन कितने प्रकार की होती है ?

वैसे तो पीओएस मशीन बहुत तरह की होती हैं लेकिन इसमें से हम कुछ खास आपको बता रहे हैं।

  • स्मॉल बिजनेस पी ओ एस मशीन 
  • रिटैल पी ओ एस मशीन 
  • होटल पी ओ एस मशीन
  • क्लाउड पी ओ एस मशीन
  • मोबाइल पी ओ एस मशीन 
  • रेस्टोरेंट और बार पी ओ एस मशीन 

तो दोस्तों आपने देखा कि हर तरह के व्यवसाय में हमारी सहायता कर सकती है इसलिए आज के जमाने में POS Machine का होना बहुत जरूरी है इसमें आप अपने व्यवसाय के हिसाब से सॉफ्टवेयर सिस्टम पड़वा सकते हैं जिससे आपको अपना बिजनेस करने में काफी आसानी हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here