POS क्या है और जानिए पीओएस (POS Full Form) का पूरा नाम हिंदी में

0
544

पीओएस (POS) क्या है | POS Full Form | POS Machine के कार्य | पीओएस मशीन के प्रकार | POS मशीन के कंपोनेंट | पीओएस का पूरा नाम क्या है

दोस्तों आज हम आपको पी ओ एस के बारे में बताएंगे यह क्या है और इसकी फुल फॉर्म क्या होती है और इसके क्या कार्य हैं POS को बिक्री बिन्दू कहते हैं। एक दुकानदार के लेन देन का प्रोसेस पूरा करता है पी ओ एस सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का एक सम्मिलित रूप है इसका इस्तेमाल इलेक्ट्रॉनिक कैश रजिस्टर के रूप में किया जाता है यह सब चीजों के बारे में हम आज आपको विस्तार से बताएंगे सीपीओएस क्या होता है।

पीओएस (POS) क्या होता है

पीओएस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का नाम है और इसकी फुल फॉर्म पॉइंट ऑफ सेल होती है। जिसका इस्तेमाल ज्यादातर मार्केट में बैठे दुकानदार करते हैं क्योंकि आज के इंटरनेट के युग में ज्यादातर खरीदार उन्हीं जगहों से वस्तु खरीदना चाहते हैं जहां पर पीओएस डिवाइस होती है इसलिए ज्यादातर मार्केटर्स ने अपने POS डिवाइस को अपने स्टोर के बाहर इसलिए रख दिया है ताकि ग्राहक को पता चल जाए इस दुकान पर पीओएस की सुविधा उपलब्ध है यह डीजिटल इंडिया की तरफ एक अच्छा कदम है इसलिए अधिकतर लोग इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं इसके द्वारा खरीदारी आसान हो जाती है और आप अपने डेबिट कार्ड के द्वारा इससे खरीदारी कर सकते हैं।

POS

POS Machine कैसे कार्य करती है ?

  • एक प्रकार की अल्ट्रॉनिक डिवाइस है जो सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर से मिलाकर बनाई जाती है यह कैशलेस ट्रांजैक्शन का कार्य करती है यह हर ग्राहक को खरीद की रसीद ऑटोमेटिकली बना कर देती है पीओएस मशीन का इस्तेमाल नोट गिनने के लिए भी किया जा सकता है
  • और यह सिलिप बनाने का काम भी बड़ी आसानी से कर लेती है पीओएस मशीन द्वारा डेबिट कार्ड प्रोसेसिंग फंड ट्रांजैक्शन रिसीविंग पेमेंट का कार्य भी बड़ी सरलता पूर्वक कर सकती है।
  • यह हर तरह के व्यापारिक संस्थान चाहे वह शॉपिंग मॉल हो या पेट्रोल पंप या मोबाइल की दुकान सभी लोग इसका इस्तेमाल करने लगे हैं।
  • यह कंप्यूटर की तरह कार्य करने वाली मशीन है जिसके द्वारा बिल की स्लिप आसानी से निकल आती है इसमें बस हमें अपना डेबिट कार्ड स्वाइप करना होता है। इसमें एक छोटी स्क्रीन लगी होती है जिसे डिस्प्ले कहते हैं उसमें सामान की सारी जानकारी आ जाती है।
POS क्या है

पीओएस मशीन कैसे बनती है ?

पीओएस मशीन को हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की सहायता से बनाया जाता है यह एक कंप्यूटराइज इलेक्ट्रॉनिक मशीन के रूप में कार्य करती है। पहले जो व्यापारिक संस्था में काफी भीड़ लग जाती थी लेकिन अब POS प्रक्रिया के द्वारा काम बहुत जल्दी हो जाता है और हर तरह का हिसाब किताब बहुत जल्द लगाकर मशीन के द्वारा उसे स्लिप दे दी जाती है जिसे बिल कहते हैं।

POS मशीन के कंपोनेंट

POS मशीन में दो तरह के कंपोनेंट कार्य करते हैं जिसे सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर करते हैं यहां हम आपको अपनी दोनों कंपोनेंट के बारे में बताएंगे।

POS मशीन

सॉफ्टवेयर

पीओएस मशीन डेबिट कार्ड के द्वारा भुगतान करने में सक्षम है इसमें खरीदे गए सामान की सारी जानकारी होती है ग्राहक  को खरीद सिलिप देने का कार्य करती है यह सभी कार्य सॉफ्टवेयर के द्वारा किए जाते हैं इसका कार्य यहीं तक सीमित नहीं है यह ग्राहक द्वारा दी गई पेमेंट डायरेक्ट दुकानदार के अकाउंट में पहुंचा देती है क्योंकि इंटरनेट से कनेक्ट होती है इसमें हाई स्पीड इंटरनेट का कनेक्शन चाहिए होता है यह डेबिट कार्ड की सारी पहचान करने के बाद ही ग्राहक के अकाउंट से पैसे कट कर व्यापारी के अकाउंट में ट्रांसफर कर देती है।

हार्डवेयर

हार्डवेयर किसी भी मशीन के उस पार्ट को कहते हैं जिसे छुआ जा सके जैसे कि कंप्यूटर में मॉनिटर प्रिंटर और सीपीयू उसी प्रकार इस मशीन में भी हार्डवेयर का इस्तेमाल किया जाता है इसमें स्वाइप मशीन के अलावा एक छोटी सी स्क्रीन होती है इसके द्वारा ग्राहक बैंक अकाउंट की जानकारी और सामान की सारी लिस्ट उसमें नजर आ जाती है जिसके द्वारा ग्राहक को सिलिप देने में आसानी होती है

पीओएस मशीन कितने प्रकार की होती है ?

वैसे तो पीओएस मशीन बहुत तरह की होती हैं लेकिन इसमें से हम कुछ खास आपको बता रहे हैं।

  • स्मॉल बिजनेस पी ओ एस मशीन 
  • रिटैल पी ओ एस मशीन 
  • होटल पी ओ एस मशीन
  • क्लाउड पी ओ एस मशीन
  • मोबाइल पी ओ एस मशीन 
  • रेस्टोरेंट और बार पी ओ एस मशीन 

तो दोस्तों आपने देखा कि हर तरह के व्यवसाय में हमारी सहायता कर सकती है इसलिए आज के जमाने में POS Machine का होना बहुत जरूरी है इसमें आप अपने व्यवसाय के हिसाब से सॉफ्टवेयर सिस्टम पड़वा सकते हैं जिससे आपको अपना बिजनेस करने में काफी आसानी हो जाएगी।

पीओएस मशीन कितने प्रकार की होती है

Advantages Of POS Machine

  • जो लोग ज्यादा शॉपिंग करने के शौकीन होते हैं उनके लिए पीओएस मशीन का इस्तेमाल जरूरी हो जाता है क्योंकि खरीदारी करने के लिए नगद रुपए रखने की आवश्यकता नहीं पड़ती।
  • यदि हमें कोई चीज मार्केट में पसंद आ जाती है तो पैसे ना होने की समस्या के कारण कभी कभी उस छोड़ना पर जाता है पीओएस मशीन के कारण हम कैश होने के बावजूद खरीदारी कर सकते हैं।
  • मार्केट में सबसे ज्यादा परेशानी खुले पैसे की होती है जो पीओएस मशीन के कारण वह समस्या भी हल हो जाती क्योंकि कई बार ग्राहक और दुकानदार के बीच खुले खुले पैसों को लेकर बहुत ज्यादा परेशानी हो जाती है।
  • पीओएस मशीन का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि किसी भी तरह के फ्रॉड या धोखाधड़ी की गुंजाइश नहीं रहती।
  • पीओएस मशीन के माध्यम से भुगतान करने से हमें अपने खर्च किए गए पैसों का हिसाब किताब नहीं रखना पड़ता क्योंकि हमारा पूरा स्टेटमेंट बैंक में रिकॉर्ड हो जाता है कि हमने कब कितना खर्च किया।
  • इस मशीन के भुगतान से हमारे ट्रांजैक्शन पर सरकार को टैक्स जाता है जिसकी वजह से टैक्स चोरी जैसी संभावना बिल्कुल खत्म हो जाती है।

पीओएस मशीन के नुकसान

  • यह तो हम सभी जानते हैं कि हर चीज का जैसे अपना फायदा होता है वैसे ही उस चीज के नुकसान भी होते हैं।
  • पीओएस मशीन का उपयोग सभी लोग नहीं कर पाते हैं हालांकि पीओएस मशीन को इस्तेमाल करना बहुत आसान होता है।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पीओएस मशीन से भुगतान करते समय आपको पैसों के लेन-देन में सावधानी अवश्य रखनी चाहिए।
  • पीओएस मशीन का उपयोग करने के लिए आपका बैंक अकाउंट होना चाहिए। उसके साथ साथ डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड होना भी बहुत जरूरी है क्योंकि इन चीजों के बिना आप ऑनलाइन शॉपिंग नहीं कर सकते।
  • वैसे तो कुछ पीओएस फ्री होते हैं जो ग्राहकों से कोई चार्ज नहीं लेते क्योंकि वह कारोबारी से शरीर सांस लेते हैं लेकिन बहुत सारी जगह कुछ दुकानदार पीओएस ग्राहक से सर्विस के बदले अतिरिक्त चार्ज वसूलते हैं।
पीओएस मशीन

पीओएस मशीन से कैश विद्रॉल करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले अपने एटीएम कार्ड को पीओएस मशीन में स्वाइप करना है।
  • जैसे ही आप अपना एटीएम कार्ड Swipe करते है, आपको कैश विद्रॉल का ऑप्शन मिलता है। जो नंबर क्रमांक से दिया रहता है। जिस नंबर पर Cash Withdrawel का ऑप्शन हो उसी पर प्रेस जरिए।
  • अब नेक्सट आपको Amount डालना है जितना पैसा आपको निकलना है उसे इंटर करना है। पैसा डालकर ग्रीन बटन पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद एटीएम पिन डालकर ओके पर क्लिक करे।
  • उसके बाद आपके अकाउंट से पैसे कत जाएंगे और स्लिप निकालकर आ जाएगी। और आप उस बैंक या जिस Shop में प्रक्रिया कर रहे है वहां पर स्लिप दिखाकर पैसा ले सकते है।

पीओएस मशीन से कैश डिपॉज़िट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले अपने एटीएम कार्ड को पीओएस मशीन में स्वाइप करना है।
  • जैसे ही आप अपना एटीएम कार्ड Swipe करते है, आपको कैश डिपॉज़िट का ऑप्शन मिलता है। जो नंबर क्रमांक से दिया रहता है। जिस नंबर पर कैश डिपॉज़िट का Option हो उसी नंबर के बटन पर क्लिक करे।
  • अब नेक्सट आपको Amount डालना है जितना पैसा आपको निकलना है उसे इंटर करना है। पैसा डालकर ग्रीन बटन पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद एटीएम पिन डालकर ओके पर क्लिक करे।
  • उसके बाद पीओएस मशीन आपको Recept स्लिप देगी जिसको निकालकर उसके साथ Cash आपको बैंक मैनेजर को देना है। बैंक मैनेजर आपका पैसा Direct आपके खाते में जमा कर देगा।

मोबाइल नंबर पीओएस मशीन में रजिस्टर करने का तरीका

  • सबसे पहले अपने एटीएम कार्ड को पीओएस मशीन में स्वाइप करना है।
  • जैसे ही आप अपना एटीएम कार्ड Swipe करते है, आपको रजिस्टर मोबाइल नंबर का ऑप्शन मिलेगा जिसपर आपने क्लिक करना है।
  • उसके बाद आपको अपना मोबाइल नम्बर दर्ज करने के बाद ओके के बटन पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद आपको एटीएम पिं डालना है। पिन डालने के बाद ओके के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस सरल प्रक्रिया को पूरा कर आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here